पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

नाबालिग के साथ छेड़खानी मामला:दो नाबालिगों ने खाया जहर, मामला संदिग्ध, तीन दिन पहले छेड़खानी के संबंध में दिया था पुलिस को आवेदन

टीकमगढ़9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

टीकमगढ़ जिले के मोहनगढ़ थाना अंतर्गत 3 दिन पहले नाबालिग के साथ छेड़खानी का मामला सामने आया था। जिसको लेकर बुधवार को नाबालिग और उसकी गवाह सहेली ने जहरीला पदार्थ खा लिया। दोनों को जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया। गौरतलब है कि मोहनगढ़ थाना में 19 जुलाई को 16 वर्षीय नाबालिग लड़की ने छेड़छाड़ की बात पुलिस को बताई। सादे कागज पर आवेदन दिया। लेकिन मामला संदिग्ध होने के चलते एफआईआर नहीं की गई।

नाबालिग और उसके माता-पिता रिपोर्ट दर्ज करने की मांग करते रहे। पुलिस को दिए बयान में नाबालिग ने बताया कि 15 जुलाई को दोपहर 2 बजे वह सहेली को उसके घर छोड़ने जा रही थी। रास्ते में गांव के जितेंद्र यादव ने रोककर मोबाइल नंबर मांगा। नंबर देने से मना किया तो अभद्रता करने लगा। कहा कि पुलिस में गई तो मुंह दिखाने लायक नहीं छोडूंगा।

आरोपी ने पकड़ना चाहा तो वह भागकर अपने घर आ गई। उस समय नाबालिग के पिता इलाज कराने दिल्ली गए थे। उसने घर पर आकर घटना बहन और चाचा को बताई। उसके चाचा ने 16 जुलाई को मोबाइल पर उसके पिता को घटना की जानकारी दी। जिस पर दिल्ली से बिना इलाज कराए वापस लौटे पिता नाबालिग को लेकर 19 जुलाई को थाने गए थे। नाबालिग की मां का कहना है कि अपराधी गांव के दबंग लोग हैं। वह खुलेआम घूम रहे हैं और धमकी दे रहे हैं।

मामले में पुलिस अधीक्षक प्रशांत खरे का कहना है कि दोनों नाबालिगों के बयान नायब तहसीलदार ने दर्ज किए हैं। गवाह नाबालिग ने पुलिस को दिए बयान में घटना से इंकार कर दिया। इसलिए मामला संदिग्ध दिखाई दे रहा है। गवाह नाबालिग ने पुलिस को बताया कि ऊपरी चक्कर होने के चलते जहरीला पदार्थ खा लिया था।

वहीं फरियादी नाबालिग का कहना है उसने गुस्से में आकर जहर खाया है। एसपी के अनुसार किसी ने दबाव डालकर दोनों नाबालिगों से शिकायती आवेदन दिलवाया है। ऐसा प्रतीत हो रहा है। हालांकि पुलिस दोनों पहलुओं पर जांच कर रही है। बयान के आधार पर भी साक्ष्य जुटा रहे हैं।

खबरें और भी हैं...