पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

खाद्यान्न वितरण व्यवस्था:राशन दुकानों में मनमर्जी, कहीं बंद मिली तो कहीं आवंटन के बाद भी वितरण नहीं किया

निवाड़ी11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

शासन की गरीब परिवारों को नि:शुल्क खाद्यान्न वितरण व्यवस्था जिले में लड़खड़ा गई है। समितियों द्वारा 2 माह की जगह एक 1 माह का खाद्यान्न वितरण किए जाने की शिकायतों पर डिप्टी कलेक्टर कुशल सिंह गौतम ने शासकीय उचित मूल्य की दुकानों का निरीक्षण किया। इस दौरान कई दुकानें बंद मिली। जिसमें भमौरा, टेहरका बरईपुरा एवं नगरीय क्षेत्र के वार्ड क्रमांक 14 व 15 की दुकानें शामिल हैं। इसके अलावा ऊबौरा में शासकीय उचित मूल्य की दुकान तो खुली मिली। लेकिन वितरण होना नहीं पाया गया।

वहीं ग्राम असाटी, देवरी, नायक बहेरा की शासकीय उचित मूल्य की दुकानों पर खाद्यान्न वितरण होना पाया गया। शासकीय उचित मूल्य की दुकान ग्राम भमौरा बंद मिली। उपभोक्ता ने बताया कि यह दुकान दो माह से बंद है। उन्हें दो-दो माह का पिछला राशन भी नहीं मिला हैं। जिस पर डिप्टी कलेक्टर ने कनिष्ठ आपूर्ति अधिकारी को दुकान नियमित खुलवा कर वितरण कराने के लिए निर्देश दिए। शासकीय उचित मूल्य की दुकान टेहरका व बरईपुरा बन्द पाई गई। यहां भी उपभोक्ता ने बताया कि उन्हें दो-दो माह का पिछला व दो माह का अभी का कुल चार माह का खाद्यान्न नहीं मिला है।

कनिष्ठ आपूर्ति अधिकारी को कार्रवाई के निर्देश
शासकीय उचित मूल्य की दुकान निवाड़ी वार्ड नंबर 14 व 15 मौके पर बन्द मिली। उपभोक्ता ने बताया कि वह एक सप्ताह से चक्कर लगा रहे हैं। लेकिन दुकान खुली नहीं मिली। करीब 15 उपभोक्ता ने दिनांक 26-5-21 की पर्ची दिखाते हुए बताया कि उन्हें दो-दो माह के खाद्यान्न आवंटन की पर्ची दी गई है। लेकिन तीन माह से कोई सामग्री नहीं दी गई है। डिप्टी कलेक्टर ने कनिष्ठ आपूर्ति अधिकारी को जांच करने व सभी को पूरा खाद्यान्न दिलाए जाने के निर्देश दिए।

डिप्टी कलेक्टर ने बताया कि शासकीय उचित मूल्य की दुकान ग्राम असाटी में वितरण होता मिला। यहां उपभोक्ता ने बताया कि बुधवार को मात्र एक माह का खाद्यान्न दिया जा रहा है। नमक, शक्कर, केरोसिन नहीं दिया जा रहा है। वहीं दो माह का पिछला राशन नहीं मिला हैं, जो दिलाया जाए। शासकीय उचित मूल्य की दुकान ग्राम उबौरा में वितरण बंद मिला। दुकान खुली हुई होकर गेहूं खाद्यान्न समाप्त हो जाने से वितरण बन्द पाया गया। उपभोक्ता ने बताया कि करीब 50 से 60 लोगों को सामग्री नहीं मिली है।

जिससे सेल्समेन दल के सदस्य विशाल गुप्ता के साथ राजदीप परमार की आपसी मारपीट हुई। मामला पुलिस थाना सेंदरी तक पहुंच चुका है। खाद्यान्न सामग्री के भौतिक सत्यापन के दौरान मौके पर चावल 4.58 क्विंटल, 25 किग्रा शक्कर, 25किग्रा नमक, 100 लीटर केरोसिन पाया गया, गेहूं निरंक था।

खबरें और भी हैं...