• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Satna
  • Madhya Pradesh PPE Kit Disposal Scam Updates; Bhopal Indore News | Satna Badkhera Plant Comes In 7 Districts Bio Waste

PPE किट डिस्पोजल घोटाले में नया मोड़:जांच में किट के अमानक बंडल मिले, रिपोर्ट कलेक्टर को सौंपी; 7 जिलों का बायो वेस्ट यहीं आता है, अब तक कोई कार्रवाई नहीं

सतना5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
अमानक बंडलों की जीपीएस ट्रैकर से ली गई तस्वीर। - Dainik Bhaskar
अमानक बंडलों की जीपीएस ट्रैकर से ली गई तस्वीर।

सतना-अमरपाटन रोड के बड़खेरा स्थित इंडो वाॅटर बायो वेस्ट डिस्पोजल प्लांट में PPE किट को धुलकर बाजार में बेचने के मामले में नया मोड़ आ गया है। जिला प्रशासन और प्रदूषण नियंत्रण की जांच में यहां कई अनियमितताएं मिली हैं। इसके बावजूद अधिकारी कुछ भी बोलने से इंकार कर रहे हैं। अधिकारियों का कहना है कि रिपोर्ट बनाकर कलेक्टर को सौंप दी है। दूसरी तरफ प्लांट के खिलाफ कार्रवाई करने में प्रशासन मजबूर नजर आ रहा है।

दबी जुबान अधिकारी कहते हैं कि सतना के बड़खेरा प्लांट में सात जिलों का बायो वेस्ट आता है। इसकी स्थापना सिर्फ 150 किमी की दूरी में हो सकती है। ऐसे में एक प्लांट होने के कारण प्लांट संचालक मजबूरी का फायदा उठा रहा है। अगर प्रशासन बड़ा निर्णय ​लेकर प्लांट बंद करा देता है, तो बायो वेस्ट कहां जाएगा। बड़खेरा प्लांट के मामले में दो साल से शिकायतों का दौर चल रहा है। फिर भी प्रशासन जांच पर जांच करा रहा है, पर कार्रवाई आज तक नहीं हुई।

25 मई को एसडीएम ने किया था निरीक्षण
बड़खेरा स्थित जैब चिकित्सा अपशिष्ट संयंत्र के बारे में ग्रामीण लगातार शिकायत कर रहे थे। उन्होंने ही प्लांट के अंदर का वीडियो बनाकर प्रशासन को सौंपा था। आरोप है, प्लांट संचालक मानकों के विपरीत कार्य कर रहा है। इससे गांव में संक्रमण का खतरा है। वह न तो कोरोना प्रोटोकाॅल का पालन करता है और न ही इसमें पीपीई किट को नष्ट किया जाता है। यहां हर जगह मेडिकल वेस्ट फेंक कर जला दिया जाता है। इसके बाद 25 मई को एसडीएम राजेश शाही ने निरीक्षण कर जांच रिपोर्ट कलेक्टर को दी थी। उन्होंने कहा था, अभी कुछ कहना जल्दबाजी होगी। रिपोर्ट कलेक्टर को सौंप दी गई है। वही, इस विषय के बारे में कुछ बोल सकते हैं।

भोपाल जाने के लिए तैयार बंडल।
भोपाल जाने के लिए तैयार बंडल।

प्रदूषण विभाग की जांच में मिले अमानक बंडल
इसके बाद 26 मई को मध्यप्रदेश प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के क्षेत्रीय अधिकारी केपी सोनी के मार्गदर्शन में टीम बनाकर वैज्ञानिक डॉ. राहुल द्विवेदी और कनिष्ठ वैज्ञानिक एसके मिश्रा निरीक्षण पर गए थे। उन्होंने जीपीएस ट्रैकर के माध्यम से प्लांट के बाहर और अंदर की तस्वीरें ली थीं। पॉल्यूशन कंट्रोल बोर्ड की टीम ने बताया, प्रशासन के पास शिकायत आ रही थी कि प्लांट के बाहर बायो वेस्ट को नष्ट किया जाता है, तो वह जांच में नहीं मिला है। हालांकि प्लांट के अंदर कई अमानक चीजें मिली हैं। जिनकी तस्वीरें व जांच रिपोर्ट कलेक्टर को सौंप दी गई है।

रिसाइकिल कर सड़क निर्माण में कर सकते हैं उपयोग, पर बाजार में नहीं
वैज्ञानिकों का दावा है, 121 डिग्री सेंटीग्रेड तापमान में ऑटो क्लिपिंग करने के बाद संक्रमण नष्ट हो जाता है। वह प्रक्रिया तो सही है। रिसाइकिल कर सड़क निर्माण में मेडिकल वेस्ट का उपयोग कर सकते हैं, पर बाजार में बिक्री नहीं कर सकते। हालांकि जांच में बंडल दिखने से संशय है, पर बाजार में बिकने के प्रमाण नहीं मिले हैं। वहीं, 21 जुलाई 2020 एच नंबर की गाइडलाइन के अनुसार पीपीई किट को रिसाइकिल करने का प्रावधान है, लेकिन वह काटकर छोटे-छोटे टुकड़े बनाकर नष्ट करने के लिए नियम है।

प्रशासन का खुला संरक्षण
सूत्रों की मानें तो प्लांट के खिलाफ पहले भी कई बार ग्रामीण शिकायत कर चुके हैं। वहीं, गाइडलाइन के अनुसार कोविड-19 जैव चिकित्सा अपशिष्ट ले जाने वाले वाहन चालक/परिचालक को PPE किट अनिवार्य है। प्लांट की ओर से ऐसा कुछ नहीं उपलब्ध है। ग्रामीणों का दावा है कि प्लांट में आए PPE किट को गर्म पानी से धोकर उन्हें रखा जाता है। फिर उन्हें खुले बाजार बेच दिया जाता। वहीं प्लांट संचालक का कहना है कि अत्यधिक दबाव वाली मशीन में दबाकर काट कर रिसाइकिल करने भोपाल भेजते हैं। बहरहाल, प्लांट में लगे उपकरण, बर्नर मापदंड के अनुकूल नहीं हैं, क्योंकि प्रशासन का खुला संरक्षण है।

वैज्ञानिकों ने जीपीएस ट्रैकर के माध्यम से प्लांट की तस्वीर ली है।
वैज्ञानिकों ने जीपीएस ट्रैकर के माध्यम से प्लांट की तस्वीर ली है।

इन जिलों से आ रहा मेडिकल बेस्ट
जांच अधिकारियों का कहना है, सतना के बड़खेरा में लगे प्लांट पर सतना के सभी अस्पतालों समेत रीवा, सीधी, सिंगरौली, पन्ना, छतरपुर और टीकमगढ़ आदि जिलों का मेडिकल वेस्ट भेजा जाता है। इस कारण प्रशासन को प्लांट संचालक से समझौता करना पड़ता है।

MP में PPE किट डिस्पोजल घोटाला:जिस बायो वेस्ट प्लांट को PPE किट को नष्ट करने का जिम्मा, वह इन्हें गर्म पानी में धोकर सतना-भोपाल के खुले बाजार में बेच रहा

खबरें और भी हैं...