• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Satna
  • Suspected Of Theft Dies In Lockup Of Satna RPF Post, Information Not Given To GRP For 8 Hours

सतना में RPF लाॅकअप में सुसाइड:चोरी के शक में पकड़ा गया युवक 1 घंटे बाद कंबल का फंदा बनाकर झूला; 8 घंटे तक RPF ने छुपाए रखा

सतना4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • मौत के 8 घंटे बाद GRP को सूचना भेजी गई, परिजन ने किया हंगामा

सतना रेलवे पुलिस फोर्स (RPF) के लॉकअप में चोरी के संदेही आरोपी ने फांसी लगा ली। घटना बुधवार शाम 5 से 6 बजे के बीच की बताई जा रही है। मामले पर RPF ने मामले में चुप्पी साध रखी थी। हालांकि रात बढ़ते ही पोस्ट में अफरा-तफरी मच गई। आनन-फानन में शव जिला अस्पताल में रखवाने के बाद आला अधिकारियों को सूचना दी गई। जानकारी के बाद रात करीब 12 बजे जबलपुर से कमांडेंट भी सतना पहुंचे। घटना के करीब 8 घंटे बाद GRP को सूचना दी गई।

RPF पोस्ट का लॉकअप, जहां आरोपी ने जान दी।
RPF पोस्ट का लॉकअप, जहां आरोपी ने जान दी।

जानकारी के मुताबिक, शाम करीब 4 बजे महानगरी एक्सप्रेस से सतना रेलवे स्टेशन में मोबाइल चोरी का आरोपी आदित्य पासी (18) पिता स्व. गुरु प्रसाद पासी निवासी पचमठा थाना सिटी कोतवाली रीवा का युवक उतरा था। यहां RPF के जवानों को देखकर उसने दौड़ लगा दी। जवान उसके पीछे भागे। उसे दबोच कर RPF पोस्ट ले आए। यहां उसके पास से चार-पांच मोबाइल मिले थे।

RPF में लिखा पढ़ी चल रही थी, तभी संदेही ने लॉकअप के अंदर कंबल के सहारे फांसी लगा ली। आनन-फानन में रेलवे के आला अधि​कारियों को सूचना देकर RPF उसे जिला अस्पताल ले गई। जहां उसे मृत घोषित कर दिया गया। शव को मॉर्च्युरी में रखवा कर RPF जवान लौट आए। कुछ देर बाद RPF ने ही मृतक के परिजनों को सूचना दी। उनसे कहा गया कि आपका बेटा GRP की कस्टडी में है। RPF टीआई मान सिंह ने मामले में देर रात तक भी चुप्पी साधे रखी। कुछ देर बाद ही जिला अस्पताल के कर्मचारियों ने RPF के लॉकअप में हुई मौत की पोल खोल दी। उधर, खबर मिलते ही RPF कमांडेंट भी सतना पहुंच गए।

सीजेएम को दी सूचना, न्यायिक जांच के आदेश
सीनियर डीसीएम अरुण त्रिपाठी रात करीब 11 से 12 बजे के बीच सतना स्टेशन पहुंचे। उन्होंने RPF पोस्ट के अधिकारियों व कर्मचारियों से बात करने के बाद मीडिया के सामने मौत की पुष्टि की है। उन्होंने कहा है कि लॉकअप में आदित्य पासी नाम के युवक ने आत्महत्या कर ली। घटना की सूचना न्यायिक जांच के लिए सीजेएम को दे दी गई है। जांच कर संबंधित दोषियों पर कार्रवाई की जाएगी।

जिला अस्पताल में चोरी का संदेही मृतक।
जिला अस्पताल में चोरी का संदेही मृतक।

RPF ने GRP पर फोड़ा ठीकरा
RPF ने GRP पर ठीकरा फोड़ने की कोशिश की UW। मृतक के कुछ रिश्तेदारों को RPF ने सूचना देकर सतना रेलवे स्टेशन बुला लिया। कहा कि आदित्य को GRP ने गिरफ्तार कर लिया है। जब एक युवती और महिला स्टेशन पहुंची, उन्हें पता चला कि आदित्य की मौत हो गई है, तो हंगामा हो गया।

परिजनों से RPF जवानों ने की झूमाझटकी
बताया गया, सूचना के बाद आदित्य की मां मुन्नी अपनी बहू और बेटों के साथ RPF पोस्ट पहुंची थी। जहां परिजनों के साथ RPF जवानों ने झूमाझटकी की थी। आरोप है, कई घंटों तक RPF यहां वहां घुमाती रही। जब परिजनों ने हंगामा किया, तो RPF के जिम्मेदार अभद्रता पर उतारू हो गए। मृतक के परिजन मौत के बाद परिजन भड़के हुए हैं। वे सतना जिला अस्पताल में पीएम नहीं होने दे रहे। प्रदर्शनकारियों की मांग है कि बेटे का शव नहीं दिखाया गया है। साथ ही आरोपी RPF अफसर और जवानों पर कार्रवाई हो, तब ही पीएम होगा। ऐसे में जिला अस्पताल में कई थानों का पुलिस बल पहुंच चुका है। एसडीएम राजेश राही, सीएमपी विजय प्रताप सिंह मौके पर मौजूद होकर परिजनों को मना रहे हैं।

नियमों के मुताबिक संदेही को पकड़ने के बार GRP को देनी चाहिए सूचना
रेल सुरक्षा बल के परिष्ठ मंडल सुरक्षा आयुक्त का कहना है कि उनके जवानों ने मोबाइल चोरी के संदेही को पकड़ा और मोबाइल भी बरामद किया था। ऐसे में उनको तत्काल GRP को सूचना देकर आरोपी को सुपुर्द कर देना चाहिए था। लेकिन यहां पर उल्टा किया गया।

वाहवाही के चक्कर में डुबाई लुटिया
आरोप है कि RPF पोस्ट प्रभारी मान सिंह और उनके जवानों ने वाहवाही के चक्कर में खुद की लुटिया डुबाई है। कानून के जानकारों का कहना है कि 7 साल की सजा से नीचे वाले आरोपियों की गिरफ्तारी का प्रावधान नहीं है। अगर पूछताछ के लिए लाते है तो लॉकअप में बंद नहीं करते। बावजूद इसके RPF ने लापरवाही ​बरती और फिर घटना व साक्ष्य​ छिपाने की पूरी मशक्कत करते रहे।

सतना में मौत, रीवा के जयस्तंभ चौक में चक्काजाम
सतना आरपीएफ पोस्ट के पुलिस लॉकअप में हुई युवक की मौत के बाद शव को पीएम के बाद रीवा जिले के लिए रवाना कर दिया गया। लेकिन यहां करीब 4 बजे के आसपास जैसे ही परिजन पहुंचे। तो जयस्तंभ चौक में शव रखकर परिजनों ने चक्काजाम कर दिया था। फिर रीवा पुलिस के वरिष्ठ अधिकारी समझाइश देकर एक घंटे के विरोध प्रदर्शन के बाद अंतिम संस्कार के लिए भेज दिया था। जब तक अंतिम संस्कार नहीं हो गया। तब तक पुलिस के आला अधिकारी मौजूद रहे।

खबरें और भी हैं...