कलेक्टर कोर्ट का बड़ा फैसला:​​​​​​​सतना की पॉश कॉलोनी की बेशकीमती जमीन सरकारी घोषित

सतना10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
कलेक्टर अजय कटेसरिया। - Dainik Bhaskar
कलेक्टर अजय कटेसरिया।

सतना जिले की सरकारी जमीनों को सुरक्षित-संरक्षित किए जाने के सरकारी प्रयासों के बीच सतना कलेक्टर की अदालत ने एक और बड़ा फैसला सुनाया है। कलेक्टर सतना अजय कटेसरिया ने सतना शहर में कोर्ट परिसर और पुराने कलेक्ट्रेट से लगी 2 एकड़ जमीन को शासकीय घोषित कर दिया है।

इस जमीन को निजी स्वत्व में दर्ज करा लिए जाने के बाद इसमें रिहायशी कॉलोनी आबाद हो गई है। शासकीय जमीन के इस फर्जीवाड़े में एक तत्कालीन कलेक्टर का नाम भी सामने आया था। शहर के सबसे पॉश इलाके की इस जमीन की कीमत मौजूदा समय में चार हजार रुपए वर्गफीट अनुमानित है।

कलेक्टर सतना अजय कटेसरिया ने सतना नगर निगम के सीमा क्षेत्र में स्थित मास्टर प्लान की आराजी नंबर 49 /1 के बटांको की 2 एकड़ भूमि को शासकीय घोषित करते हुए मप्र शासन नजूल के नाम दर्ज करने का आदेश पारित किया है।

शासकीय रही इस भूमि को मूल रकबा 7 एकड़ से अलग कर 2 एकड़ भूमि राम प्रसाद श्रीवास्तव के नाम निजी स्वत्व में दर्ज की गई थी जिसे बाद में प्रेमा खरे पत्नी रिटायर्ड डिप्टी कलेक्टर राम निवास खरे के नाम दान पत्र के जरिये हस्तांतरित कर दिया गया था।

खरे ने यह भूमि बेच दी जिसके बाद अब इसके भूखंडों का नामांतरण 26 लोगों के नाम हो गया। इस भूमि पर अब आलीशान मकान बन गए हैं और बस्ती आबाद है। बाला प्रसाद ताम्रकार पिता स्व शुकदेव प्रसाद ताम्रकार ने कलेक्टर न्यायालय में आवेदन प्रस्तुत कर शासकीय जमीन के निजी स्वत्व में दर्ज हो जाने की शिकायत की थी। कलेक्टर ने संज्ञान लेते हुए मामले की जांच कराई और इस भूमि से संबंधित दस्तावेज तलब किए।

एसडीएम रघुराजनगर द्वारा की गई जांच में पाया गया कि भूमि के राम प्रसाद श्रीवास्तव के नाम दर्ज किये जाने का कोई आदेश नहीं था। यह भूमि साल 1958-59 में रकबा 7 एकड़ 30 डिसमिल सरकारी दर्ज थी।

बार-बार बदले आराजी नंबर, एक आईएएस का भी नाम

साल 1963-64 में यह भूमि खसरा नंबर 49/क रकबा 5 एकड़ म्युनिसिपालिटी मास्टर प्लान दर्ज थी जबकि 49 / 1 / ख रकबा 2 एकड़ राम प्रसाद श्रीवास्तव तथा आराजी नंबर 49/2 रकबा 30 डिसमिल आर पूना आईएएस कलेक्टर वल्द गंगा दयाल हाल मुकाम रामगढ़ के नाम निजी स्वत्व में दर्ज हो गई। जांच में पाया गया कि इस आराजी को मूल आराजी से अलग कर निजी स्वत्व में दर्ज किये जाने का कोई आदेश नहीं किया गया था। यही नहीं बाद में वर्ष 1973 -74 में आराजी नंबर 49 /1 रकबा 5 एकड़ नजूल विभाग मप्र शासन दर्ज पाई गई जबकि पूर्व में दर्ज आराजी नंबर 49 /1 /ख की जगह आराजी नंबर 49 /2 रकबा 2 एकड़ राम प्रसाद श्रीवास्तव तथा 49 /3 रकबा 30 डिसमिल आर पूना आईएएस कलेक्टर के नाम दर्ज हो गई। बाद में इसी आराजी नंबर 49 /2 के कई बटांक हुए और कई लोगों के नाम बटांक दर्ज हुए।

कलेक्टर कोर्ट ने माना- अवैध हैं नामांतरण

प्रकरण पर विचारण और जांच में सामने आये तथ्यों के अवलोकन के बाद कलेक्टर न्यायालय ने माना कि मास्टर प्लान की आराजी में राम प्रसाद श्रीवास्तव तथा आर पूना आईएएस के नाम दर्ज की गई प्रविष्टियां बिना किसी सक्षम अधिकारी के आदेश के की गई हैं।

ये प्रविष्टियां अवैध हैं और फर्जी रूप से की गई हैं। कलेक्टर ने अपने आदेश में कहा है कि ऐसी स्थिति में फर्जी तरीके से शासकीय भूमि के निजी भूमि स्वामी बने लोगों द्वारा किया गया विक्रय अवैध है तथा इस भूमि पर कराये गए नामांतरण निरस्त किये जाते हैं। उक्त भूमि को पुनः नजूल मप्र शासन दर्ज किये जाने का आदेश पारित किया जाता है।

भूमि स्वामियों को नोटिस देकर लें आवेदन

जिस भूमि को कलेक्टर कोर्ट ने नामांतरण निरस्त कर नजूल मप्र शासन दर्ज किये जाने का आदेश दिया है वहां आलीशान मकान बन चुके हैं और लोग उनमे निवास भी कर रहे हैं लिहाजा कलेक्टर ने उनके व्यवस्थापन के निर्देश भी दिए हैं।

कलेक्टर अजय कटेसरिया ने अपने आदेश में कहा है कि वर्ष 2020-21 तक हुए विक्रय के आधार पर जिन 26 लोगों के नाम भूमि स्वामी के रूप में दर्ज हैं उन्हें पृथक से नोटिस जारी कर नजूल भूमि के व्यवस्थापन प्रावधानों के तहत उनसे आवेदन लिए जाएं। ये आवेदन नजूल भूमि निवर्तन निर्देश 2020 के तहत लिए जाएं।

ये हैं भूमि स्वामी

  • प्रेमा खरे पत्नी रिटायर्ड डिप्टी कलेक्टर राम निवास खरे निवासी रीवा
  • संतोष कुमार तनय श्यामलाल गुप्ता
  • रमेश कुमार पिता श्यामलाल गुप्ता
  • वीरेंद्र कुमार पिता स्व सतीश कुमार
  • राजेश्वरी देवी पत्नी सरयू प्रसाद श्रीवास्तव
  • राजीव पांडेय पिता राजेन्द्र प्रसाद पांडेय
  • जितेंद्र कुमार पिता मदनगोपाल साकेत
  • सुरेंद्र कुमार पिता ब्रह्मदत्त ब्राह्मण
  • कामता प्रसाद पिता छोटलाल शुक्ला
  • सावित्री देवी पत्नी बसन्त कुमार तिवारी
  • अतुल श्रीवास्तव पिता बृजकृष्ण सहाय
  • रामसुंदर पिता चन्द्रमौल त्रिपाठी
  • प्रमोद कुमार पिता रामायण प्रसाद
  • केशर द्वारा बलि सूरज प्रसाद गर्ग
  • रवि ब्राह्मण पिता रामायण प्रसाद
  • अंकुर पांडेय पिता प्रमोद कुमार पांडेय
  • प्रमोद कुमार पांडेय पिता बृजलाल ब्राह्मण
  • विजयशील मेहता पुत्री विद्यासागर
  • आरएस पूना आईएएस पिता गंगा दयाल तत्कालीन कलेक्टर