पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Satna
  • Vidya's Aunt And Aham And Arthav's Baba Will Become Parental Defeat, Shivraj's Maternal Uncle Will Pay Fees From Pension To Higher Education

मुख्यमंत्री कोविड 19 बाल कल्याण योजना:विद्या, अहम और अर्थव का सरकार रखेगी ध्यान, पेंशन से लेकर हायर एजुकेशन की फीस चुकाएगी

सतना2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सीएम की वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में शामिल हितग्राही के परिजन व महिला एवं बाल विकास की टीम। - Dainik Bhaskar
सीएम की वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में शामिल हितग्राही के परिजन व महिला एवं बाल विकास की टीम।
  • सतना जिले के तीन हितग्राहियों का चयन, पांच केस की महिला बाल विकास कर रहा स्टडी

कोरोना आपदा काल में अपने मां-बाप को खोने वाले बच्चों के पालने पोसने से लेकर शिक्षा ​दीक्षा का खर्चा राज्य सरकार उठा रही है। इसके लिए रविवार दोपहर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से पीड़ित बच्चों परिजनों से रूबरू हुए। पांच मिनट के संवाद में सबसे पहले सीएम ने गीता चौरसिया और गोरेलाल त्रिपाठी से बात की।

महिला एवं बाल विकास के कार्यक्रम अधिकारी सौरभ सिंह ने बताया कि 1 मार्च 2021 से 30 जून 2021 के बीच अनाथ हुए बच्चों का मुख्यमंत्री कोविड 19 बाल कल्याण योजना अंतर्गत चयन हो रहा है। ऐसे में सतना जिले में तीन हितग्राहियों का चयन हो चुका है, जबकि पांच केसों में महिला एवं बाल विकास स्टडी कर रहा है।

हितग्राही विद्या चौरसिया की मौसी व बड़ी मम्मी प्रमाण पत्र लेते हुए।
हितग्राही विद्या चौरसिया की मौसी व बड़ी मम्मी प्रमाण पत्र लेते हुए।

पिता की सड़क हादसे व माता की कोरोना से मौत
गीता चौरसिया निवासी लालपुर ब्लॉक अमरपाटन से ​सीएम शिवराज सिंह चौहान ने बातचीत की। सीएम को गीता ने बताया कि हितग्राही विद्या चौरसिया की मैं बड़ी मां और मौसी हूं। उन्होंने बताया कि विद्या के पिता 5 मार्च 2016 को एक सड़क हादसे में जान गवां दिए थे, जबकि माता की मृत्यु 30 अप्रैल 2021 को कोरोना से हो गई थी। ऐसे में उसके पालने पोसने का जिम्मा मेरे पास आ गया है। क्योंकि मेरे बगल में ही विद्या चौरसिया का घर बना है। आंगनबाड़ी के माध्यम से योजना का पता चला तो अधिकारियों ने बयान लेने के बात मैंने स​​हमति दी है।

हितग्राही अहम और अर्थव के बाबा गोरेलाल त्रिपाठी प्रमाण पत्र लेते हुए।
हितग्राही अहम और अर्थव के बाबा गोरेलाल त्रिपाठी प्रमाण पत्र लेते हुए।

पिता की कोरोना से मौत, मां गम में कर ली सुसाइड
शहर के मारूती नगर में रहने वाले गोरेलाल त्रिपाठी ने सीएम शिवराज सिंह चौहान को बताया कि बड़े बेटे की कोविड से 25 अप्रैल 2021 को मौत हो गई। ऐसे में तेरहवीं के बाद बहू ने भी गम में सुसाइड कर ली। जिससे अहम त्रिपाठी और अर्थव त्रिपाठी के पालने पोसने की जिम्मेदारी निभा रहा हूं। ऐसे में आंगनबाड़ी की मदद से मुख्यमंत्री कोविड 19 बाल कल्याण योजना का पता चला तो लगा कि शायद बुरे वक्त में सरकार सहारा बने। सरकार ने योजना में चयन कर बोझ हल्का कर दिया है, लेकिन गोरेलाल त्रिपाठी ने सीएम से बेटे के एसएएफ से जिला पुलिस बल में ट्रांसफर की मांग की। साथ ही, कहा कि बड़े पोते के किडनी में समस्या है। तब सीएम ने कलेक्टर के माध्यम से प्रकरण मंगवाकर निदान का आश्वासन दिया है।

यह मिलेगा राज्य सरकार की ओर से अनाथ बच्चों को
- 5 हजार प्रतिमाह पेंशन दी जाएगी
- रहने का स्थान न होने पर बाल देख रेख संस्था में प्रवेश
- नि:शुल्क मासिक राशन
- 1 से आठ तक नि:शुल्क शिक्षा सरकारी स्कूल में
- प्राइवेट में आरटीई के तहत प्रवेश व शुल्क सहायता
- 9 से 12 तक पढ़ने पर 10 हजार सालाना फीस
- हायर एजुेशन में का खर्चा
- मेडिकल, इंजीनियरिंग की पढ़ाई में मदद

खबरें और भी हैं...