पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Satna
  • Wheat Was Not Being Lifted From The Procurement Centers Of Satna District, Thousands Of Quintals Of Wheat Kept In The Open Were Drenched

विंध्य में बेमौसम बारिश-ओले:सतना जिले के खरीदी केंद्रों से नहीं हो रहा था गेहूं का उठाव, खुले में रखा हजारों क्विंटल गेहूं भीगा; अनूपपुर, शहडोल में भी आंधी-पानी

सतना3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सतना जिले के शाह मोड के गेहूं खरीदी केंद्र पर हजारों क्विंटल गेहूं भीग गया। - Dainik Bhaskar
सतना जिले के शाह मोड के गेहूं खरीदी केंद्र पर हजारों क्विंटल गेहूं भीग गया।
  • अकेले अमरपाटन ब्लॉक के शाह मोड खरीदी केंद्र पर 10 हजार क्विंटल गेहूं भीगा

विंध्य क्षेत्र के सतना में शुक्रवार दोपहर कई जगहों पर झमाझम बारिश हुई है। बे-मौसम बारिश से जहां खरीदी केंद्रों में खुले में रखा हजारों क्विंटल गेहूं पूरी तरह भीग गया। वहीं, अकेले अमरपाटन ब्लॉक के शाह मोड खरीदी केंद्र पर 10 हजार क्विंटल गेहूं के भीगा है। हालांकि ये बारिश अमरपाटन क्षेत्र के अन्य गांवों में भी हुई है। इससे खरीदी केंद्रों में खुले रखे गेहूं के गीला होने का आंकड़ा बढ़ सकता है। इसके अलावा प्रदेश के अनूपपुर, शहडोल और अमरकंटक में भी तेज बारिश के साथ ओले गिरे हैं। इससे कई जगह पेड़ गिर गए। भोपाल, इंदौर में शाम को बादल छा गए।

किसानों ने आरोप लगाया, ज्यादातर खरीदी केंद्र खेतों को बराबर कर बनाए गए हैं। ऐसे में बारिश के बाद कीचड़ की स्थितियां बन गई। गेहूं से लोड किसानों की ट्रैक्टर-ट्रॉलियों में पानी भर गया। कई केंद्रों की मैपिंग न होने के कारण गेहूं खरीदी केंद्रों से उठाव नहीं हो पाया था। ऐसे में उन केंद्रों पर ज्यादा नुकसान हुआ है। वहीं, रीवा जिले के कई क्षेत्रों में चने के आकार के ओले भी गिरे हैं।

इन केंद्रों पर ज्यादा नुकसान
झमाझम बारिश के बीच अमरपाटन जनपद पंचायत के गेहूं खरीदी केंद्रों पर अव्यवस्था दिखी। यहां ग्राम शाह मोड़ में स्थित गेहूं खरीदी केंद्रों में 20 मिनट की बारिश ने सरकारी व्यवस्थाओं की पोल खोल दी। हालांकि ये बारिश अमरपाटन तहसील के कटहा मोड, बारी मोड और शाह मोड में ज्यादा हुई है। वहीं, सरबका, करही, कटहा, मगराज और रामनगर क्षेत्र में बारिश की खबरें आ रही हैं।

क्षेत्र में चने के आकार के ऐसे ओले पड़े हैं। ओलों को मुट्‌ठी में दिखाता एक शख्स।
क्षेत्र में चने के आकार के ऐसे ओले पड़े हैं। ओलों को मुट्‌ठी में दिखाता एक शख्स।

मौसम विभाग ने जारी किया था अलर्ट
बता दें कि पहले ही मौसम विभाग ने अलर्ट जारी किया था, जिससे लगातार दो दिन से मौसम का मिजाज बदल रहा है। रोजाना पहले आसमान में कालिमा छाती है, फिर आंधी तूफान के बाद रिमझिम बारिश का दौर शुरू हो जाता है। रीवा जिले में जहां बारिश के साथ ओले गिरने की खबर आई। वहीं, कई क्षेत्रों में खरीदी केन्द्रों में रखे गेहूं के गीले होने की सूचना आ रही है।

सतना के उचेहरा कस्बे में वेयर हाउस के अंदर लगा पेड़ आंधी और बारिश से गिर गया। इसके नीचे बाइक और साइकिल दबकर क्षतिग्रस्त हो गईँ।
सतना के उचेहरा कस्बे में वेयर हाउस के अंदर लगा पेड़ आंधी और बारिश से गिर गया। इसके नीचे बाइक और साइकिल दबकर क्षतिग्रस्त हो गईँ।

मुरैना के ग्रामीण इलाकों में भी बारश और ओले

मुरैना जिले के अंचल में शुक्रवार दोपहर करीब 4 बजे करीब 25 मिनट तक ओले पड़े और जमकर बारिश हुई। अंचल के पहाड़गढ़, धूरकूडा, रानीपुरा, टेलरी, पंचमपुरा, कुम्हारपुरा, जनुआपुरा और मनोहरपुरा समेत अन्य गांवों में जमकर ओले पड़े। यहां पहले तेज आंधी आई। करीब एक घंटे बाद बारिश शुरू हो गई। देखते ही देखते ओले पड़ने शुरू हो गए।

अनूपपुर में ओला, बारिश-आंधी से भारी तबाही

शहर में आंधी-पानी से पेड़ गिर गए।
शहर में आंधी-पानी से पेड़ गिर गए।

अनूपपुर और शहडोल में दोपहर करीब तीन बजे तेज बिजली चमकने/ गिरने के बाद हुई मूसलाधार बारिश और ओले गिरने से मौसम में ठंडक आ गई है। बारिश और ओलों ने जमकर तबाही मचाई है। कई जगह पेड़ टूट कर सडकों पर गिर गए। आम की फसल को भी नुकसान हुआ है। कुछ जगह से पानी की टंकियों और टीन - छप्पर उड़ गए।

खबरें और भी हैं...