नगर पालिका चुनाव:निर्दलीय मैदान में डटे बागियों से कई वार्डों में बिगड़ रहे भाजपा-कांग्रेस के गणित

आष्टा2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

नगर पालिका चुनाव को लेकर इस समय नगर के चौराहे आबाद बने हुए हैं। सुबह से लेकर देर रात तक वार्डों में चुनाव प्रत्याशियों का जनसंपर्क बना हुआ है। इसके चलते अब नगर निकाय चुनाव को लेकर सरगर्मी तेज बनी हुई हैं। नगर में भाजपा और कांग्रेस के बीच टक्कर का मुकाबला है, लेकिन कई जगह पार्टियों के बागी ही निर्दलीय मैदान में होने से त्रिकोणीय मुकाबला बना दिया है।

नगर पालिका के 18 वार्डों में पार्षद पद के लिए 68 प्रत्याशी चुनावी मैदान में हैं। इसमें कांग्रेस व भाजपा के 18-18 तथा 29 निर्दलीय प्रत्याशी है। इस बार तीन प्रत्याशी आम आदमी पार्टी से हैं। जिससे भाजपा व कांग्रेस प्रत्याशी के गणित के समीकरण काे प्रभावित कर रहे हैं। इस बार सबसे अधिक बागी प्रत्याशी कांग्रेस से हैं। जो वार्ड में उनके समीकरण को बिगाड़ रहे हैं। वहीं कुछ वार्ड में भाजपा के बागी ही भाजपा प्रत्याशी को सीधा नुकसान पहुंचा रहे हैं।

जिससे कांग्रेस प्रत्याशी को सीधे फायदा मिलेगा। लंबे समय से आष्टा नगर पालिका पर कांग्रेस का कब्जा रहा है, लेकिन इस बार भारतीय जनता पार्टी पूरे जोर के साथ मैदान में है। ऐसे में भाजपा अपने अधिक प्रत्याशी को जिताने के लिए प्रयास कर रही है।

जिसमें विधायक व वरिष्ठ नेता सहित वार्डों में पहुंच रहे हैं। इसी तरह कांग्रेस से अध्यक्ष पद के लिए राखी सुरेंद्र परमार सशक्त दावेदार मानी जा रही हैं।हालांकि कांग्रेस में गुटबाजी होने की वजह से भीतरघात का अधिक खतरा भी है। वहीं भाजपा से अध्यक्ष पद के लिए हेमकुंवर राय सिंह मेवाड़ा दावेदार मानी जा रही हैं। उनका सामना एक ओर कांग्रेस से तथा अध्यक्ष पद की दावेदार नीलम सोनी के सामने हैं।

खबरें और भी हैं...