आष्टा से समाज जनों ने श्रीफल किया भेंट:पिड़ावा में होगा इस वर्ष पूज्य श्रमण श्री भूतबलि सागर जी महाराज का चातुर्मास

आष्टाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

संत शिरोमणि आचार्य विद्यासागर महाराज के परम प्रभावक शिष्य श्रमण भूतबलि सागर महाराज ससंघ का इस वर्ष का चातुर्मास का पिड़ावा में होगा।

अनियत विहारी गुरु के अनियत विहारी शिष्य जो कि बिना बताए ही विहार करते हैं। मोड़ी अतिशय क्षेत्र पर इंदौर, देवास, उज्जैन, आष्टा, नलखेड़ा, पिड़ावा आदि जगह से समाज के सैकड़ों गुरु भक्तों ने पूज्य श्री से अपने-अपने नगर में चातुर्मास करने की विनती की थी। दोपहर को प्रवचन के दौरान श्रमण भूतबलि सागर ने सभी को बताया कि आप अपने पुण्य को ओर बढ़ाइए​​​​​​​, अपनी भावनाओं को बनाए रखिए आपको फल जरूर मिलेगा।

पूज्य मुनिश्री ने घोषणा की है कि इस वर्ष का चातुर्मास का लाभ पिड़ावा समाज को मिलेगा। आप सभी निराश नहीं हो, आप सभी अपने-अपने लक्ष्य को पाने के लिए निरंतर धर्म मार्ग पर चलिए। एक दिन यही जिन गंगा रुपी मार्ग आपकी मुक्ति का मार्ग बनेगा। पूज्य श्री के श्रीमुख से पिड़ावा की घोषणा होते ही पूरा सभागृह गुरु जी के जय-जय कारों से गुंजायमान हो गया।

महाराज श्री को श्रीफल भेंट करने वालों में आष्टा से महामंत्री कैलाश चंद्र जैन चित्रलोक, रमेशचंद जैन आदिनाथ, पवन जैन अलीपुर, सुरेंद्र जैन शिक्षक, महेंद्र जैन जादूगर, निर्मल जैन कोठरी, दिलीप लक्ष्पति, मुकेश जैन मावा, धर्मन्द्र जैन, नितिन जैन, पर्व जैन, अथर्व जैन, अक्षत जैन, अर्चित जैन, मोना जैन, किरण जैन आदि गुरु भक्तों ने गुरु शरण में पहुंच कर आज अपनी भावना रखी‌।

खबरें और भी हैं...