खरीफ फसल की बोवनी के लिए खेत तैयार:खरीफ फसल के लिए खेत हुए तैयार, बारिश के इंतजार में बोवनी के लिए रूके किसान

आष्टाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

क्षेत्र में जून माह की शुरूआत से ही किसानों ने खरीफ फसल की बोवनी के लिए खेतों को तैयार कर लिया था। पिछले दिनों तीन-चार दिनों की लगातार बारिश के बाद कई किसानों ने बोवनी कार्य कर दिया है। वहीं अब पिछले चार दिनों से बारिश थमी हुई है। इस कारण उन किसानों में चिंता देखने को मिल रही है। यदि समय रहते बारिश नहीं हुई तो सोयाबीन का महंगा बीज खराब हो सकता है तथा दोबारा से बोवनी कार्य करना पड़ सकता है।

जिन किसानों ने पर्याप्त बारिश के इंतजार में बोवनी नहीं की है उनके खेत तैयार हैं। वहीं किसान खाद की व्यवस्था में सोसायटी पहुंच रहे हैं। पिछले साल प्री-मानसुन की बारिश अच्छी होने पर क्षेत्र में बीते वर्ष 14 जून से बोवनी का कार्य शुरू हो गया था। जिसको देखते हुए इस वर्ष भी किसान जून माह की शुरूआत से ही खेतों में खाद डालकर बखरने के कार्य में लग गए थे।

जिससे बारिश होते ही वह खरीफ फसल की बोवनी कर सके, लेकिन मानसून की देरी ने किसानों के चेहरे पर चिंता की लकीरें खींच दी है। क्योंकि 23 जून को ही हल्की बारिश हुई थी। उसके बाद से अभी तक बारिश नहीं हुई है। सिद्दीकगंज के किसान रामस्वरूप ने बताया कि एक सप्ताह पहले ही बोवनी कर दी थी, लेकिन अब बारिश नहीं हो रही है। इससे बीज का नुकसान हो सकता है।

प्री-मानसून भी रहा फीका
पिछले दिनों प्री-मानसून की एक या दो बार ही जमकर बारिश हुई है। उसके बाद से अभी तक सूखा ही पड़ा हुआ है। नगर में बारिश हुए करीब चार दिन बीत चुके हैं, लेकिन बारिश नहीं हो सकी है। इस कारण लोगों को गर्मी के कारण भी परेशानी उठानी पड़ रही है।

खबरें और भी हैं...