बूंद-बूंद पानी के लिए घंटों की मशक्कत:आष्टा के पास गांव में गहराया जल संकट, साइकिल से ला रहे पानी, हैंडपंप भी तोड़ने लगे दम

आष्टाएक महीने पहले

जल संकट ने लोगों की नींद उड़ा कर रख दी है बूंद बूंद पानी के लिए लोगों को जद्दोजहद करना पड़ रही है तब कहीं जाकर प्यास बुझ रही है यही हाल ग्रामीण अंचलों में हो रहा है बल्कि शहरी क्षेत्र में भी जल संकट आसानी से देखा जा सकता है। हैंडपंप कुओं का जलस्तर नीचे जाने से दम तोड़ना शुरू कर दिया है कुछ हैंड पंप पानी दे रहे हैं तो व वहां भी कम मात्रा में।

दूर-दूर से ला रहे पानी भरकर

मई में जल संकट का सामना नगर ही नहीं ग्राम वासियों को भी करना पड़ रहा है। गांव में छोटे से लेकर बड़े तक सुबह से लेकर शाम तक पानी की जुगाड़ में लगे रहते हैं लोग साइकिल व बैलगाड़ी से पानी लाते हुए आसानी से देखे जा सकते हैं जिन हैंडपंपों से कुछ दिन पहले तक पानी भरते थे वह हैंडपंपों ने भी साथ छोड़ दिया अब लोग जल संकट की आहट से चिंता में आ गए हैं।

नगर में एक दिन छोड़कर जल सप्लाई

पूरा नगर पार्वती नदी पर आश्रित है इस बार पार्वती नदी पूरी नहीं भरा पाई थी वही रामपुरा डैम से भी पर्याप्त पानी नहीं मिल पाया था अब पार्वती नदी में भी कुछ दिनों का पानी शेष बचा है वही नगर पालिका नगर में एक दिन छोड़कर जल सप्लाई कर रही है।

इन गांवों में ज्यादा जल संकट

आष्टा ब्लॉक के खाचरोद सिद्धि गंज के कई गांव व उमरधड़, गोविंदपुरा ,जाजनपुरा ,धर्मपुरी नानजीपुरा ,कुर्लीकला, आर्निया , खामखेड़ा आदि गांव में लोगों को जल संकट का सामना करना पढ़ रहा है। कुआं में पानी कम है। ऐसे में आगामी दिनों में और जल संकट का सामना करना पड़ सकता है।

इस संबंध में नगरपालिका के सीएमओ नंदकिशोर परसानिया ने बताया है कि अभी नगरपालिका आष्टा नगर में एक दिन छोड़कर जल सप्लाई कर रही है। वहीं पार्वती नदी में अभी कुछ दिनों का पानी शेष बचा है। नगर वासियों को सतत जल सप्लाई जारी रहे यही हमारा प्रयास है। वही इस संबंध में पीएचई के प्रभारी एसडीओ से बात करनी चाही तो उनसे संपर्क नहीं हो पाया।

खबरें और भी हैं...