रुक-रुककर रिमझिम बारिश:जुलाई के साथ जून का बचा कोटा भी पूरा होने की उम्मीद

सीहोरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

इस बार मानसून की सुस्त चाल से हर कोई परेशान है। मानसून लेट आया लेकिन बारिश अच्छी नहीं हो रही है। यही वजह है कि पिछले साल की अपेक्षा इस साल बहुत कम बारिश हुई है। सोमवार को भी सुबह से रिमझिम बारिश का दौर कुछ देर चला। रुक-रुककर रिमझिम बारिश देर शाम तक होती रही। पिछले 24 घंटे के दौरान जिले में 33.1 मिमी बारिश रिकार्ड हुई है।

अब तक जिले में 167.3 मिमी औसत बारिश ही हो पाई है। जबकि पिछले साल अब तक 231.6 मिमी औसत बारिश रिकार्ड हो चुकी थी। मौसम विभाग का मानना है कि जुलाई महीने में दो अच्छे सिस्टम बन रहे हैं जो बारिश का कोटा पूरा कर सकते हैं। हालांकि अभी जो बारिश हो रही है वह लोकल सिस्टम से हो रही है, जिसके कारण कभी तेज तो अचानक कभी बारिश बंद हो जाती है।

आरएके कॉलेज स्थित ग्रामीण कृषि मौसम सेवा केंद्र के विशेषज्ञ डॉ. सत्येंद्र सिंह तोमर ने बताया कि 6 जुलाई से नया सिस्टम सक्रिय होगा, जिससे अच्छी बारिश की संभावना बनेगी। इसके साथ ही 12 जुलाई के बाद फिर एक मजबूर सिस्टम सक्रिय होगा।

सबसे ज्यादा बारिश बुदनी और फिर आष्टा में हुई
इस साल सबसे ज्यादा बारिश बुदनी, आष्टा और इछावर क्षेत्र में ही हुई है। भू-अभिलेख शाखा के रिकार्ड अनुसार बुदनी में 235 मिमी, आष्टा में 213 मिमी और इछावर में 202 मिमी बारिश रिकार्ड हुई है। वहीं सीहोर में 108.9 मिमी, श्यामपुर में 177 मिमी, जावर में 132 मिमी, रेहटी में 194.6 मिमी और नसरुल्लागंज में मात्र 76.2 मिमी बारिश रिकार्ड हुई। जो बहुत कम है।

खबरें और भी हैं...