सीहोर कलेक्ट्रेट में महिला ने लगाई न्याय की गुहार:बोली- नपा ने 3 दिनों में घर खाली करने के दिए आदेश

सीहोर10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

कलेक्ट्रेट में इच्छा मृत्यु का आवेदन देने वाली वृद्ध महिला को धमकी देने का मामला सामने आया है। मकान का मामला कोर्ट में चल रहा है। प्रशासनिक अधिकारी कोर्ट के आदेश को भी नहीं मान रहे। बस स्टैंड स्थित मकान को जबरन खाली कराने का प्रयास किया जा रहा है। तीन दिनों के अंदर मकान खाली नहीं करने पर मकान तोड़ने की कार्रवाई करने की चेतावनी के प्रशासनिक अधिकारियों ने दी।

कलेक्ट्रेट पहुंची रेहटी की आवेदिका ललता बाई बेवा स्व किशोर सिंह ने बताया की खसरा कमांक 250/4 में से 0.005 एकड भूमि उनके अधिपत्य की है। इस भूमि पर बने मकान को सड़क बनाने और नाला गहरीकरण के नाम पर जबरन तोड़े जाने की कोशिश की जा रही है। इच्छा मृत्यु का आवेदन कलेक्ट्रेट कार्यालय में देने के बाद 13 मई को नगर परिषद रेहटी कार्यालय में बुलाकर समस्या का समाधान नहीं तो नहीं किया गया बल्कि नगर परिषद सीएमओ और तहसीलदार द्वारा कोर्ट के आदेश को नहीं मानते हुए तीन दिनों के अंदर मकान खाली करने और नहीं करने पर जबरन मकान तोड़ ने और फिर इच्छा मृत्यु की मांग करने पर जेल में डलवाने की धमकी भी दी गई है।

इस संबंध में कलेक्ट्रेट कार्यालय पहुंचकर ललता बाई ने न्याय की गुहार लगाते हुए कहा की मानसिक रूप से काफी परेशान किया जा रहा है रेहटी में पदस्थ अधिकारी अपने पद का दुर्पयोग कर रहे है। बुजुर्ग हॅू पति का भी स्वर्गवास हो गया है। जीवनयापन का यही एक मकान सहारा है।