31 जुलाई तक होगा फसलों का बीमा:खरीफ और रबी की फसलों के लिए बीमा कंपनी को आदेश जारी किए

सीहोरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के तहत वर्ष 2022-23 खरीफ एवं रबी मौसम के लिए क्लस्टरवार निर्धारित कर बीमा कंपनियों को आदेश जारी किए जा चुके है। फसलों का बीमा ऋणी एवं अऋणी कृषक 31 जुलाई तक करवा सकते है। अऋणी किसान अधिसूचित फसलो का बीमा बैंक, लोक सेवा केन्द्र या फसल बीमा पोर्टल पर जाकर स्वयं सोयाबीन, मक्का, कपास, ज्वार, बाजरा, अरहर, मूंगफली, मूंग व उड़द फसल का बीमा करा सकते हैं। ऋणी कृषको का बीमा संबंधित बैंकों के माध्यम से किया जायेगा।

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के तहत मौसम खरीफ 2022 के लिए अधिसूचित पटवारी हल्का अंतर्गत किसानों की अधिसूचित फसलों का बीमा करने के लिए बैंकों द्वारा प्रीमियम नामे किये जाने की अंतिम तिथि 31 जुलाई निर्धारित है। बैंकों द्वारा बीमित किसानों की प्रविष्टि के लिए भारत सरकार के फसल बीमा पोर्टल (NCIP Portal) पर समय सीमा में प्रविष्टि किया जाना आवश्यक है। बोई गई फसल की क्षति के समय कृषकों को हानि से बचने के लिये तथा बोई जाने वाली फसल में किसान द्वारा किसी भी प्रकार का परिवर्तन किया गया है, तो किसान द्वारा संबंधित बैंक से सम्पर्क कर बीमांकन की अंतिम तिथि के 2 दिन पहले यानि 29 जुलाई तक बोई गई वास्तविक फसल की जानकारी बैंकों उपलब्ध कराया जाना है।

किसानों की सुविधा को देखते हुए प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना मौसम खरीफ 2022 अन्तर्गत प्रदेश में नेशनल क्रॉप इन्श्योरेन्स पोर्टल पर भू-अभिलेख के एकीकरण का कार्य किया जा रहा है। पंजीयन के समय कृषक की भूमि धारिता संबंधी जानकारी भू-अभिलेख के आधार पर पोर्टल में ड्राप डाउन पर उपलब्ध हो सकेगी। जिसमें बीमाकर्ता (बैंकर्स, कामन सर्विस सेन्टर, स्वंय कृषक) द्वारा संगत खसरा नंबर का चयन कर धारित भूमि का बीमा किया जा सकेगा। किसानों की सुविधा को देखते हुए पंजीयन के दौरान खसरा नंबर तथा बीमित भूमि के क्षेत्रफल की सही-सही जानकारी बैंक द्वारा NCIP पोर्टल पर दर्ज की जाना है, जिससे किसानों को समय पर सही बीमा पॉलिसी जारी हो सकेगी।