पश्चिमी विक्षोभ के कारण:आष्टा, श्यामपुर और नसरुल्लागंज में हुई बारिश, ओले गिरने की आशंका

सीहोर9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
अंचल में बारिश के दौरान इस तरह का दिखा नजारा। - Dainik Bhaskar
अंचल में बारिश के दौरान इस तरह का दिखा नजारा।

सुबह से ही जिले में छाया रहा घना कोहरा आखिरकार बुधवार को अंचल में बारिश का दौर शुरु हो गया। आष्टा-जावर के साथ-साथ श्यामपुर तथा नसरुल्लागंज के लाड़कुई क्षेत्र में रविवार को बारिश हुई। जिलेभर में दिन भर घने बादल छाए रहे। मौसम विभाग ने दो दिन और अंचल में बारिश की संभावना जताई है।

कहीं-कहीं ओले भी गिर सकते हैं। बुधवार को अधिकतम तापमान 27 डिग्री और न्यूनतम तापमान 12 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया है। जनवरी की शुरुआत से ही अंचल में तेज ठंड पड़े रही थी। लेकिन पिछले तीन दिनों से पश्चिमी विक्षोभ के असर से दिन और रात के तापमान में तेजी से उछाल आया।

लेकिन अब बुधवार को अंचल में फिर बारिश का दौर शुरू हो गया। पश्चिमी विक्षोभ के कारण आष्टा-जावर, श्यामपुर, और नसरुल्लागंज क्षेत्र में कहीं-कहीं तेज बारिश हुई। वहीं शुजालपुर और कालापीपल में भी बारिश हुई। बारिश का फसलों को फायदा मिलेगा।

लेकिन उत्तर-पश्चिम हवा के कारण कहीं-कहीं ओले गिरने की भी आशंका बन रही है। आरएके कॉलेज स्थित ग्रामीण कृषि मौसम सेवा केंद्र के विशेषज्ञ डॉ. सत्येंद्र सिंह तोमर ने बताया कि मावठे की शुरुआत हो चुकी है। अभी दो दिन और ऐसा ही मौसम रहेगा। इस दौरान कहीं-कहीं तेज तो कहीं हल्की बारिश हो सकती है।

हवा की रफ्तार अधिक होने के कारण इस दौरान ओले गिरने की संभावना भी बढ़ गई है। 15 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से चली हवा : बुधवार को सुबह से उत्तर-पश्चिमी हवा चल रही है। बुधवार को 15 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से हवा चली।

यदि ऐसी ही हवा चलती रही तो ओले फसलों को नुकसान पहुंचा सकते हैं। हालांकि मौसम विभाग को उम्मीद है कि जल्द ही हवा का रुख बदलकर उत्तर पूर्व हो जाएगी। इस दौरान घना कोहरा छाएगा।

सिंचाई का पानी बचेगा
मावठा गिरने से जहां फसलों को फायदा होगा वहीं सिंचाई के पानी की भी बचत होग। इसके साथ ही बारिश से वाटर लेवल भी बढ़ेगा। बारिश से किसानों की एक सिंचाई बच जाएगी। जलस्त्रोत भी रिचार्ज हो जाएंगे। इस पानी का आने वाले दिनों में उपयोग किया जा सकेगा।

फसलों के लिए फायदेमंद साबित होगी बारिश
पश्चिमी विक्षोभ के कारण अंचल में बारिश का दौर शुरु हुआ है। यह बारिश सभी फसलों के लिए फायदे वाली साबित होगी। यदि ओले गिरते हैं तो नुकसान हो सकता है। लेकिन बारिश से कोई नुकसान नहीं हैं। दो दिन और बारिश का दौर चलेगा।
डॉ. सत्येंद्र सिंह तोमर, मौसम विशेषज्ञ

खबरें और भी हैं...