बड़ी संख्या में सड़कों पर आवारा मवेशी:शहर की सड़कों पर घूमते रहते हैं आवारा मवेशी, इन्हें गोशाला भेजने कोई प्लान नहीं

सीहोरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

शहर की सड़कों पर इन दिनों आवारा मवेशी बड़ी संख्या में दिखाई दे रहे हैं, जो कि दिनभर शहर की सड़कों पर यहां-वहां घूमते रहते हैं। इन मवेशियों के सड़कों पर हर कहीं बैठने से वाहन चालकों को परेशानी का सामना करना पड़ता है। इस वजह से बाजार में कई बार जाम के हालात भी बनते हैं। वहीं इनके सड़कों पर बैठने से वाहन चालक भी दुर्घटना का शिकार हो रहे हैं।

शहर में वैसे ही ट्रैफिक जाम की स्थिति बनी रहती है। वहीं सड़कों पर आवारा पशुओं के जमे रहने की वजह से यह समस्या और भी गहरा जाती है। स्थिति यह है कि शहर में आवारा मवेशी बीच सड़क पर बैठे रहते हैं, जिससे लोगों को आवागमन में काफी परेशानी होती है।

कई बार दो पाहिया वाहन चालक मवेशियों को बचाने के चक्कर में फिसल जाते है, जिससे वह चोटिल हो रहे हैं लेकिन नगर पालिका के जिम्मेदार अधिकारी इस ओर कोई ध्यान नहीं दे रहे हैं, जिससे शहर के लोगों को इस समस्या से निजात नहीं मिल पा रहा है।

रेडियम पट्‌टी न लगी होने से दूर से नहीं आते नजर
शहर की सड़कों पर दिनभर यहां-वहां घूमने वाले ये आवारा पशु रात में सड़कों पर बैठ जाते हैं। जिसकी वजह से लोगों का निकलना मुश्किल हो जाता है। वहीं इन पशुओं के सींगों पर रेडियम पट्टी न लगी होने से लोगों को यह दूर से नजर नहीं आते, जिससे कई बार दो पहिया वाहन चालक तो दुर्घटना का शिकार हो जाते हैं। वहीं कई बार वाहन चालक इनको बचाने के चक्कर में फिसल जाते है या अन्य वाहन से टकराकर हादसे का शिकार हो जाते हैं।

गोशाला पहुंचाने पर हल हो सकती हैं समस्याएं
सरकार द्वारा आवारा मवेशियों को रखने के लिए गोशालाएं बनवाई गई हैं। अगर नगर पालिका इन आवारा पशुओं को पकड़कर गोशाला पहुंचा देती है, तो इससे शहर में होने वाले हादसे कम हो जाएंगे। वहीं बार-बार ट्रैफिक लगने की समस्या से भी कुछ हद तक शहर को निजात मिल सकता है। इसके अलावा इनके गोशाला जाने से नपा द्वारा शहर की सुंदरता के लिए लगाए गए पेड़-पौधे और घास भी बची रहेगी, जिससे शहर सुंदर और हराभरा बना रहेगा।

सड़कों पर फैला देते हैं दुकानों में रखा सामान, लोग परेशान
बाजार में भी कई बार यह दुकानों में रखे सामान या खाने की वस्तुओं को भी खा लेते है या उनके बिखेर देते है, जिससे व्यापारियों का भी काफी नुकसान हो जाता है। कई बार व्यापारियों के डंडा मार कर भगाने पर यह मवेशी किसी वाहन से टकरा जाते है, जिससे हादसा हो जाता है।

हरियाली पर भी पड़ रहा है असर
शहर को सुंदर और हराभरा बनाने के लिए नगर पालिका द्वारा डिवाइडरों पर पौधे और घास लगाई गई है, जिसे यह मवेशी खा रहे है या फिर उखाड़ देते है। इनके ऐसा करने से शहर की सुंदरता और हरियाली भी बर्बाद हो रही है। कई बार तो यह आवारा पशु लोगों के घरों में लगे फूलों या अन्य पौधों को भी खा जाते है, जिससे शहर की हरियाली पर भी प्रभाव पड़ रहा है।

खबरें और भी हैं...