बरसात का मौसम:शहर में घूम रहे आवारा मवेशी, सड़कों पर खड़े रहकर आए दिन लगा रहे जाम

सीहोरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

बरसात का मौसम शुरू होने वाला है लेकिन इधर आवारा मवेशियों के कारण परेशानी होने लगी है। हालत यह है कि ये सड़कों के बीच खड़े हो जाते हैं। दोपहिया वाहन चालक तो किसी तरह आसपास की जगह देखकर निकल जाते हैं लेकिन चार पहिया वाहन चालकों को परेशानी हो रही है। इस कारण जाम की स्थिति भी बन रही है। इन मवेशियों का झुंड परेशान करता आ रहा है।

कई बार बीच सड़क पर बैठने से भी स्थिति काफी नाजुक हो रही है। समय रहते यदि इस समस्या पर ध्यान नहीं दिया गया तो आगे चलकर किसी भी दिन स्थिति खराब हो सकती है। आवारा मवेशियों के कारण लोग अब परेशान हो चुके हैं।

कई बार लोगों ने इस समस्या के निदान की मांग को उठाया तो उन्हें आश्वासन भी दिया गया लेकिन हुआ कुछ नहीं। कई बार नगर पालिका ने इन आवारा मवेशियों को दूर जाकर जंगल के क्षेत्र में छुड़वाया लेकिन ये मवेशी फिर से यहां पर आ जाती हैं। इससे लोगों को परेशानी होती जा रही है।

सड़कों पर लग रहा जाम
शहर में वैसे ही ट्रैफिक जाम की स्थिति बनी रहती है। इन सड़कों पर आवारा मवेशियों के बैठे रहने की वजह से समस्या और अधिक गहरा जाती है। स्थिति यह है कि शहर में मवेशी बीच सड़क पर बैठे रहते हैं, जिससे लोगों को आवागमन में काफी परेशानी होती है।

कई बार दो पहिया वाहन चालक मवेशियों को बचाने के चक्कर में फिसल जाते हैं, जिससे वह चोटिल हो जाते हैं। लेकिन प्रशासनिक अधिकारी इस ओर कोई ध्यान नहीं दे रहे हैं, जिससे शहर के लोगों को इस समस्या से निजात नहीं मिल पा रहा है।

रात के समय बढ़ जाता है खतरा
शहर की सड़कों पर दिन भर घूमने वाले ये आवारा मवेशी रात में ज्यादा समस्या खड़ी करते हैं। सड़कों पर बैठ जाते हैं। इस वजह से लोगों का निकलना मुश्किल हो जाता है। वहीं इन पशुओं के सींग पर रेडियम पट्टी न लगी होने से लोगों को यह दूर से नजर नहीं आते, जिससे कई बार दो पहिया वाहन चालक तो दुर्घटना का शिकार हो जाते हैं। वहीं कई बार वाहन चालक इनको बचाने के चक्कर में फिसल जाते हैं या अन्य वाहन से टकराकर हादसे का शिकार हो जाते हैं।

शहर की हरियाली को कर रहे हैं मवेशी बर्बाद
शहर को सुंदर और हराभरा बनाने के लिए नगर पालिका द्वारा डिवाइडरों पर पौधे और घास लगाई गई है, जिसे यह मवेशी खा रहे हैं या फिर उखाड़ देते हैं। इनके ऐसा करने से शहर की सुंदरता और हरियाली भी बर्वाद हो रही है। कई बार तो यह आवारा पशु लोगों के घरों में लगे फूलों या अन्य पौधों को भी खा जाते हैं, जिससे शहर की हरियाली पर भी प्रभाव पड़ रहा है।

व्यापारियों का भी नुकसान
बाजार में भी कई बार यह दुकानों में रखे सामान या खाद्य सामग्री को भी खा लेते हैं। कई बार दुकानों के बाहर रखी सामग्री को गिरा देते हैं। इस कारण व्यापारियों का भी काफी नुकसान हो जाता है। कई बार व्यापारियों के डंडा मार कर भगाने पर यह मवेशी किसी वाहन से टकरा जाते हैं, जिससे हादसा हो जाता है।

खबरें और भी हैं...