कलेक्टर ने किया कराटे बेल्ट एग्जाम पास:तीन महीने तक बहाया पसीना, बेटी अक्षरा ने भी हासिल किया यलो बेल्ट

सीहोर2 महीने पहले

एक तरफ तो पूरे जिले की जिम्मेदारी दूसरी ओर अपने शरीर को फिट रखने के लिए लंबे समय से हमेशा चुस्त और दुरुस्त रहने वाले सीहोर जिले के सरल और मिलनसार कलेक्टर चंद्रमोहन ठाकुर ने लगातार तीन महीने तक पसीना बहाने के बाद कराटे कलर बेल्ट एग्जाम को पास किया है। वैसे वह चाहते तो अपने रूतबे के बल पर बिना अभ्यास करे ही बेल्ट हासिल कर सकते थे, लेकिन उन्होंने अन्य प्रतिभागियों के साथ भीषण गर्मी में अभ्यास कर बेल्ट हासिल किया है। साथ ही उनकी छह वर्षीय पुत्री अक्षरा ठाकुर ने भी लगातार अभ्यास करने के बाद येलो बेल्ट हासिल किया है। शहर के बजरंग कालोनी स्थित मास्टर आफ ताओ कराटे एसोसिएशन के तत्वाधान में कोच लखन ठाकुर के नेतृत्व में करीब पांच दर्जन से अधिक प्रतिभागियों ने कलर बेल्ट हासिल किए है।

इस मौके पर यहां पर मौजूद खिलाड़ियों का उत्साहवर्धन करते हुए कलेक्टर ठाकुर ने कहा कि आत्मरक्षा के लिए कराटे एक अच्छा विकल्प है, इसे सीखना चाहिए। इसके अलावा भी शारीरिक मानसिक विकास के लिए खेल बहुत आवश्यक है। उन्होंने कहा कि शारीरिक शिक्षा भी बहुत आवश्यक है यह सभी बच्चों को दी जानी चाहिए। कलेक्टर ठाकुर ने स्वयं मास्टर ऑफ ताओ एसोसिएशन द्वारा आयोजित येलो एवं ग्रीन बेल्ट प्रतिस्पर्धा में भाग लिया और प्रतियोगिता की परीक्षा देकर येलो बेल्ट जीता। साथ ही अनेक खिलाड़ियों ने प्रतिस्पर्धा में भाग लेकर अनेक बेल्ट अर्जित किए। श्री ठाकुर ने कहा कि व्यायाम जरूरी है। हमें प्रतिदिन इस प्रकार की गतिविधियों के लिए कुछ समय जरुर निकालना चाहिए। यदि हम स्वस्थ और फिट हैं तो अन्य काम भी बेहतर ढंग से कर पाएंगे।

आयोजित कराटे बेल्ट प्रतियोगिता में करीब तीन माह के अभ्यास में करीब 100 से अधिक खिलाड़ियों ने भाग लिया था, वहीं इस मौके पर पांच दर्जन से अधिक खिलाड़ियों ने शानदार प्रदर्शन करते हुए येलो, ओरेंज, ब्राउन, ग्रीन, ब्ल्यू, पर्पल और ब्राउन बेल्ट हासिल किया है। इन प्रतिभागियों में कलेक्टर के अलावा डीपीसी और पटवारी सहित अन्य शामिल थे जो शासकीय सेवा में रहने के बाद भी फिट रखने के लिए समय निकालते है।