भगवान जगन्नाथ जी की रथयात्रा:मंदिर और प्रतिमाओं को संवारने का काम शुरू, पढ़ें...पूरी खबर

सीहोर3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

शहर में लंबे समय से जगन्नाथ मंदिर टाट बाबा परमार क्षत्रिय समाज ट्रस्ट के तत्वावधान में भव्य रथ यात्रा इस साल भी आस्था और उत्साह के साथ निकाली जाएगी। इसके लिए यहां पर परमार समाज के साथ श्रद्धालु तैयारियां में जुटे हुए। तैयारियां पूर्ण हो गई है। रथ यात्रा के साथ यहां पर भगवान की मूर्तियों को सजाया जा रहा है। इसके अलावा मंदिर की सजावट का कार्य चल रहा है।

इस संबंध में जानकारी देते हुए समाज के तुलसीराम पटेल ने बताया कि रथ यात्रा की तैयारियों को लेकर शहर सहित आस-पास के स्थानों पर तैयारियां जारी है। मंदिर के आस-पास के स्थान पर साफ-सफाई कर मैदान का समतलीकरण कराया और समाजजनों की एक बैठक का आयोजन भी किया गया। इस मौके पर यहां पर मौजूद समाजजनों ने बताया कि करीब साठ सालों से निरंतर भगवान जगन्नाथ की रथ यात्रा निकाली जा रही है।

भगवान की यात्रा आस्था के साथ निकाली जाएगी। उन्होंने बताया कि उन्होंने बताया कि भगवान जगन्नाथ स्वामी की रथ यात्रा 1961 में मंदिर के जीर्णोद्धार के साथ शुरु की थी। रथ यात्रा का सामाजिक संगठनों द्वारा जगह-जगह स्वागत किया जाएगा। परमार समाज के राज गुरु 232 मंदिरों के जीर्णोद्धार व अखिल भारतीय धर्म संघ के अध्यक्ष ब्रह्मलीन श्री 1008 पंडित काशीप्रसाद कटारे की प्रेरणा से इस मंदिर का जीर्णोद्धार सन 1961 में परमार समाज ने किया था। यात्रा दोपहर बारह बजे जगन्नाथ मंदिर सब्जी मंडी से शुरु होकर नमक चौराहा, बड़ा बाजार होते हुए शहर के मंडी स्थित श्रीराम मंदिर पहुंचेगी। आगामी एक जुलाई को सुबह भगवान को स्नान और अभिषेक कराने के बाद सिंहासन पर बैठाया जाएगा, जहां पर उत्साह के साथ हवन, पूजन के साथ पूजा अर्चना की जाएगी और दोपहर में पूजा अर्चना की जाएगी।

गौरतलब है कि पिछले दो सालों से कोरोना संक्रमण के चलते रथयात्रा सादगी के साथ निकाली गई थी और मंदिर परिसर में ही भगवान की मूर्तियों को विराजमान कर परंपरा का निर्वहन किया गया था, लेकिन इस साल पूरे उत्साह के साथ रथ यात्रा निकाली जाएगी। उन्होंने बताया कि इस वर्ष चल समारोह का अध्यक्ष देव नारायण परमार को बनाया गया है।

खबरें और भी हैं...