महिला बाल विकास विभाग की सारी व्यवस्थाएं फेल:आंगनबाड़ी कार्यंकर्तां, सहायिका और मिनी कार्यंकर्ताओं की हड़ताल का व्यापक असर

सीहोर3 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

आंगनबाड़ी कार्यंकर्तां सहायिका और मिनी कार्यंकर्ताओं की हड़ताल का व्यापक असर हो रहा है। हड़ताल से जिले भर में चल रहा टीकाकरण कार्य बुरी तरह प्रभावित हो गया है। आंगनबाड़ियों के बाहर मंदिरों या चौक चौराहों पर बैठकर एएनएम के द्वारा बमुश्किल कुछ बच्चों का ही टीकाकरण किया जा सका है।

हजारों बच्चों को बुधवार को भी विभाग पौषण आहार उपलब्ध नहीं करा पाया है। महिला एवं बाल विकास विभाग की सारी व्यवस्थाएं फेल हो गई है। इधर टाउन हाल के बाहर हड़ताल पर बैठी सैकड़ों आंगनबाड़ी कार्यंकर्तां सहायिका और मिनी कार्यंकर्ताओं ने गूंगे बेहरे अंधे प्रदेश शासन को जगाने के लिए गांधीजी के तीन बंदर बनाएं और मामा तेरे राज में कटोरा हमारे हाथ में गाकर विरोध स्वरूप टाउनहॉल सड़क पर मानव श्रृखंला बनाकर जोरदार नारेबाजी करते हुए प्रदर्शन किया।

आंगनबाड़ी कार्यकर्ता सहायिका और मिनी आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं ने धरना स्थल पर तीन कार्यकर्ताओं को सरकार के प्रतीक के तौर पर गूंगे बहरे और अंधे बंदर बनाकर अपनी मांगे रखी कार्यकर्ताओं ने कहा की सरकार गांधी जी के तीन बंदरों की तरह ही रवैया अपना रही है कानों से हाथ हटाकर हमारी जायज मांगे सूनिए अंधापन छोड़कर हमारी परेशानियों को सुनिए और गूंगापन छोड़कर मांगों को लेकर कुछ तो बोलिए। कार्यकर्ताओं ने अपनी ग्यारह सूत्रीय मांगों को लेकर टाउनहॉल स्थित पूराना इंदौर भोपाल हाईवे पर मानव श्रृंखला बनाकर विरोध दर्ज कराया।

रविवार से आंगनबाड़ी केंद्रों में तालाबंदी के बाद अपनी ग्यारह सूत्रीय मांगों को लेकर आंगनबाड़ी कार्यंकर्तां सहायिका मिनी कार्यंकर्ताओं के द्वारा प्रदेश सरकार के खिलाफ जमकर हल्ला बोला आंदोलन किया जा रहा है। हड़ताल पर बैठी आंगनबाड़ी कार्यंकर्तां सहायिका मिनी कार्यंकर्ताओं को विभिन्न राजनीतिक संगठनों का लगातार समर्थन भी मिल रहा है।

सोमवार से आंगनबाड़ी कार्यकर्ता व सहायिका संघ बेनर के साथ आंगनबाड़ी कार्यंकर्तां सहायिका और मिनी कार्यंकर्ताओं ने छह दिवसीय धरना आंदोलन शुरू किया है। पहले दिन से ही जिले भर में आंगनबाड़ी कार्यंकर्तांओं की प्रदेश व्यापी हड़ताल का असर होना शुरू हो गया है।

खबरें और भी हैं...