सड़क की मांग:महिलाओं और बच्चों ने कलेक्टर कार्यालय में किया प्रदर्शन, बोले - हमें क्यों सजा मिल रही है

सीहोर8 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

दुपाडिय़ा दांगी गांव की काकड़ कॉलोनी की महिलाओं और बच्चों ने कलेक्ट्रेट में पहुंचकर डिप्टी कलेक्टर को ज्ञापन सौंपकर दुपाडिय़ा दांगी की काकड़ कॉलोनी से बड़बेली तक सड़क निर्माण की मांग की। इस मौके पर रचना बाई ने कहा कि साहब बारिश के समय बीमार हो जाते हैं तो हमारे वाहन घर पर नहीं पहुंच पाते हैं। हमें बमुश्किल खटिया पर सड़क तक पहुंचाना पड़ता है। हमें किस बात की सजा मिल रही है।

वहीं, मुलिया बाई ने कहा कि बारिश में नाले पर पुल नहीं होने और कच्ची सड़क में कीचड़ होने से वाहन नहीं चल पाते, जिससे समय पर काकड़ कॉलोनी के दो लोग अस्पताल नहीं पहुंच सके थे, जिससे उनकी रास्ते में ही मौत हो गई थी। हमारी सीएम और विधायक जी से मांग है कि जल्द से जल्द दुपाड़िया दांगी की काकड़ कॉलोनी से बड़वेली तक सड़क मार्ग बनाया जाए।

धरना देने की दी चेतावनी
ग्राम दुपाडिय़ा दांगी की काकड़ कॉलोनी के रघुवीर मीना ने कहा कि हमने प्रभारी मंत्री प्रभुराम चौधरी, विधायक और कलेक्टर को इस समस्या से अवगत करा दिया, लेकिन कोई इस और ध्यान नहीं दे रहे हैं। अभी एक माह पहले ही फौजियों के कार्यक्रम में प्रभारी मंत्री प्रभुराम चौधरी, रामेश्वर शर्मा जी, रामपाल सिंह जी के वाहन बमुश्किल ग्राम दुपाडिय़ा दांगी की काकड़ कॉलोनी पहुंचे थे। नाले के पास इतना खराब रास्ता था कि उनका वाहन नाले में से बमुश्किल निकल पाया। यदि हमारी समस्या का समाधान नहीं हुआ तो 15 दिनों के बाद धरना देंगे।

नहीं हो रही सुनवाई
हम पांच साल से सरकार से गुहार लगा रहे हैं, लेकिन अभी तक हमारी सड़क नहीं बन पाई है। हमारे बारिश में हमारे बच्चे स्कूल नहीं पहुंच पाते, इसलिए हम बच्चों को भी हमारे साथ लाए है, ताकि सरकार को भी दिखे कि हम कितनी परेशानी से गुजर रहे। अरविंद मेवाड़ा, काकड़ कॉलोनी के बच्चों का कहना है कि हमारा क्या कसूर, मैं स्कूल नहीं जा पाता... प्रदर्शन में शामिल छोटे बच्चों ने बताया कि बारिश में नाला पूर आने से हम स्कूल नहीं जा पाते, जिससे हमारी पढ़ाई बंद हो जाती है।