• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Seoni
  • Food Is Not Available As Per Menu In Government Secondary School, Gorakhpur, Students Complain To Officials

मिड-डे-मील में गड़बड़ी का मामला:शासकीय माध्यमिक शाला गोरखपुर में नहीं मिल रहा मीनू के अनुसार भोजन, विद्यार्थियों ने अधिकारियों से की शिकायत

सिवनी2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

सिवनी जिले के शासकीय माध्यमिक शाला गोरखपुर में मध्याह्न भोजन में गड़बड़ी का मामला सामने आया है। जहां मीनू के हिसाब से खाना न मिलने की शिकायत अधिकारियों से की गई है।

लगे गंभीर आरोप

ग्रामीणों ने बताया मध्याह्न भोजन के लिए प्रदेश सरकार लाखों-करोड़ों रूपए खर्च कर रही है। ताकि बच्चों को पौष्टिक और मीनू के आधार पर अच्छा भोजन मिल सके। लेकिन स्व सहायता समूह मासूमों को पतली दाल खिलाकर खुद की जेब भर रहे हैं। एक शाला एक परिसर विद्यालय में सैकड़ों बच्चों को सिर्फ पतली सी दाल परोसी जा रही है।

200 से अधिक बच्चे हैं अध्यनरत

वहीं ग्राम के लोगों का कहना है कि सिवनी के छपारा विकासखंड के गोरखपुर माध्यमिक शाला में 200 से अधिक विद्यार्थियों अध्ययनरत हैं। जिन्हें मध्याह्न भोजन में मीनू कार्ड के आधार पर भोजन नहीं दिया जा रहा है। पानी जैसी पतली दाल परोसी जा रही है, जबकि दाल के अलावा सब्जी और अन्य पौष्टिक आहार जो मीनू के आधार पर दिए जाना चाहिए वह भी नहीं दिया जा रहा।

आरोप है कि खाना खिलाने वाले संस्था स्वयं सहायता समूह के ओर से खाना बनाने का प्रबंध किया जाता है। जिसके ओर से लापरवाही बरतते हुए बच्चों के स्वास्थ्य के साथ खिलवाड़ किया जा रहा है। जबकि सरकार के ओर से मीनू के हिसाब से बच्चों की थाली में भोजन दिया जाना चाहिए।

इसके लिए बाकायदा लंबे-चौड़े बिलों का भुगतान भी सरकार वहन करती है, लेकिन ऐसा कुछ छपारा विकासखंड के गोरखपुर माध्यमिक विद्यालय में नजर नहीं आ रहा है। वहीं शिक्षकों ने कहा कि बार-बार कहने पर भी खाना खिलाने वाला स्व सहायता समूह के ओर से सुधार नहीं किया गया है। इसकी जानकारी उन्होंने अधिकारियों को भी दी है।

कमलेश धुर्वे, सरपंच गोरखपुर ग्राम पंचायत का कहना है कि मध्याह्न भोजन का निरीक्षण किया है, जिसमें अनियमितताएं देखी जा रही हैं। बच्चों को पतली दाल दी जा रही है। कोरोना काल के समय जो खाद्यान्न दिया जाना था, उसमें भी गोलमाल है, इसकी भी जांच होनी चाहिए।

वहीं मध्याह्न भोजन प्रभारी रवि ठाकुर का इनका कहना है कि गोरखपुर माध्यमिक विद्यालय मध्यान भोजन की शिकायत जो प्राप्त हुई है।उसकी शीघ्र ही जांच की जाएगी और उचित कार्रवाई की जाएगी। बच्चों को मीनू अनुसार भोजन दिया जाएगा।

गत दिवस मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मध्याह्न भोजन को लेकर सख्त तेवर पर नजर आते हुए कहा था कि कोताही ना हो और मध्याह्न भोजन स्कूल के बच्चों को स्वच्छ और मीनू के आधार पर दिया जाए। जहां मध्याह्न भोजन नहीं मिल रहा है, वहां बच्चों को मध्याह्न भोजन मिलना चाहिए।

खबरें और भी हैं...