सिवनी जिला अस्पताल में टॉर्च के सहारे ऑपरेशन:लोग बोले- करोडों खर्च होने के बाद भी अव्यस्था, मरीज और परिजन होते है परेशान

सिवनी2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

सिवनी जिला अस्पताल में टॉर्च की रोशनी में काम हो रहा है। अस्पताल में भर्ती मरीजों के परिजनों का कहना है कि सिवनी अस्पताल की स्थिति यह हो गई कि बड़े-बड़े जनरेटर होने के बावजूद बिजली गुल होने के चलते टॉर्च की रोशनी में इलाज करना पड़ रहा है। जिससे मरीजों को जान का खतरा बना हुआ है।

ऑपरेशन के दौरान गुल हो गई बिजली

बताया जा रहा है कि डॉक्टर सिरोठिया एक व्यक्ति की हड्डी का ऑपरेशन कर रहे थे। तभी अचानक बिजली गुल हो गई। बड़े-बड़े जनरेटर होने के बावजूद बिजली बहाल नहीं हुई। मजबूरी में डॉक्टर को टॉर्च की रोशनी में ऑपरेशन करना पड़ा।

सिर्फ रस्म अदायगी करते है जनप्रतिनिधि

स्थानीय लोगों का कहना है कि जनप्रतिनिधि केवल अस्पताल का औचक निरीक्षण करने की रस्म अदायगी करते है। उन्होंने कभी अस्पताल में पदस्थ सिविल सर्जन डॉ. विनोद नावकर से यह पूछने की जहमत नहीं उठाई कि अस्पताल में जनरेटर रखे हुए हैं। वह जनरेटर काम करते हैं या फिर सिर्फ शोभा बढ़ाते हैं। यदि काम करते हैं तो अस्पताल में टॉर्च की रोशनी से ऑपरेशन करने या डिलीवरी करने की बातें सामने क्यों आती है?

अनियमितता के कारण घट सकती है घटना

जिला चिकित्सालय उपचार कराने आए मरीजों के परिजनों ने बताया कि अस्पताल में अनियमितता का आलम रहता है। अधिकारियों को इस ओर ध्यान देना चाहिए। नहीं तो बड़ी घटना घट सकती है।

खबरें और भी हैं...