नाबालिग से दुष्कर्म के आरोपी को 20 साल की सजा:लड़की को बहला-फुसलाकर नागपुर भगा ले गया था, शादी का झांसा देकर किया गुमराह

सिवनी5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

शादी का झांसा देकर नाबालिग से रेप के आरोपी को कोर्ट ने 20 साल की सजा सुनाई है। साथ ही आरोपी पर 10 हजार का अर्थदंड भी लगाया गया है। मामला सिवनी के कान्हीवाडा थाना क्षेत्र का है।

नाबालिग की मां ने दर्ज कराई थी रिपोर्ट

अभियोजन कार्यालय के मीडिया सेल प्रभारी मनोज सैयाम ने बताया कि नाबालिग की मां ने प्रथम सूचना रिपोर्ट दर्ज कराई थी, जिसमें नाबालिग बेटी को अज्ञात व्यक्ति द्वारा बहला-फुसलाकर साथ भगा ले जाने की बात कही गई थी। जांच में पुलिस को पता चला कि ईंट बनाने का काम करने के दौरान नाबालिग की पहचान आरोपित गोविंदा से हुई थी और दोनों के बीच बातचीत भी होती रहती थी।

इसी का फायदा उठाकर आरोपित गोविंदा पुत्र मानसिंह चक्रवर्ती (21) टिकारी निवासी शादी का प्रलोभन देकर 10 अप्रैल 2019 की रात करीब 10 बजे नाबालिग को बहला-फुसलाकर नागपुर भगा ले गया। यहां पर शाखा चौक कामठी के पास ईंट गारा का काम करने वाली झोपड़ी में रखा और शादी का प्रलोभन देकर कई बार पति-पत्नी जैसे संबंध बनाए।

नाबालिग के बयान के आधार पर आरोपित गोविंदा के खिलाफ प्रकरण दर्ज कर मामले को न्यायालय में पेश किया गया। इसकी सुनवाई विशेष न्यायाधीश (पोक्सो एक्ट) न्यायालय में की गई। न्यायालय में शासन की ओर से विशेष लोक-अभियोजक दीपा मर्सकोले ने गवाहों और सबूत प्रस्तुत कर कड़ी सजा की मांग की गई। न्यायालय ने दिए अपने फैसले में आरोपित गोविंदा चक्रवर्ती को 366 भादवि में 10 साल कारावास व 5 हजार रुपए अर्थदंड, 376(2)(एन) भादवि में 20 साल सजा व 10 हजार रुपए अर्थदंड, 5एल/6 पोक्सो एक्ट में 20 साल कठोर कारावास व 10 हजार रुपए के अर्थदंड से दंडित किया है।