• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Shahdol
  • Annual Convention Of Division Insurance Employees Union Organized In Budhar, A Huge Rally Taken Out

अधिवेशन कई सत्र में चला:डिवीजन इंश्योरेंस एंप्लाइज यूनियन का वार्षिक अधिवेशन बुढार में आयोजित, निकाली गई विशाल रैली

शहडोल3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

डिवीजन इंश्योरेंस एंप्लाइज यूनियन का दो दिवसीय 27वां वार्षिक अधिवेशन बुढार में आयोजित किया गया। जिसमें ऑल इंडिया और सेंट्रल जोन इंश्योरेंस एंप्लाइज एसोसिएशन के वरिष्ठ पदाधिकारियों व शहडोल डिवीजन के बुढार, कोतमा, ब्यौहारी मनेंद्रगढ़, चिरमिरी, शहडोल, सूरजपुर, अंबिकापुर, उमरिया, सीधी, बैढन सहित 12 ब्रांच के पदाधिकारी व सदस्यों ने अपनी सहभागिता निभाई।

अधिवेशन के प्रथम दिवस सिंधी धर्मशाला बुढार स्थल से अमलाई चौक, बस स्टैंड, कोतमा मार्ग, लखेरन टोला मार्ग में सैला नृत्य के साथ संगठन के उत्साहीजन, ध्वज को हाथ में लिए सरकारी संस्थाओं के निजीकरण, ठेकेदारी प्रथा बंद करने, बेरोजगारों को रोजगार के अवसर उपलब्ध कराने, महंगाई पर रोक लगाने व एलआईसी में आईपीओ की प्रक्रिया को बढ़ाए जाने की दिशा में सरकार के ओर से उठाए जा रहे कदमों के विरुद्ध नारेबाजी करते हुए अधिवेशन स्थल, रैली के साथ पहुंचे। जहां ऑल इंडिया इंश्योरेंस एंप्लाइज यूनियन के सह सचिव काम. धर्मराज महापात्र ने यूनियन के ध्वज को फहराकर अधिवेशन का शुभारंभ किया।

विशाल रैली भी निकाली गई। दो दिवसीय आयोजित अधिवेशन कई सत्र में चला, जिसमें वक्ताओं ने संगठन के साथ-साथ भारतीय जीवन बीमा निगम के आईपीओ को जारी करने की प्रक्रिया को आगे बढ़ाकर केंद्र सरकार के ओर से निजीकरण की दिशा पर ले जानें उठाए जा रहे कदमों की जमकर आलोचना की।

सेंट्रल जोन इंश्योरेंस एंप्लाइज एसोसिएशन के अध्यक्ष काम. एन. चक्रवर्ती के मुख्यातिथ्य और सेंट्रल जोन के सह सचिव काम. वीएस बघेल, जबलपुर डीविजन महासचिव काम. हीरालाल कुशवाहा सेंट्रल जोन कोषाध्यक्ष काम. बीके ठाकुर के विशिष्ट आतिथ्य में अधिवेशन कार्यक्रम आयोजित किया गया।

इस अवसर पर मुख्य अतिथि सेंट्रल जोन अध्यक्ष काम. एन चक्रवर्ती ने कहा कि, मेहनतकश मजदूर महंगाई की मार झेल रहा है और बेरोजगारों को रोजगार का अवसर नहीं मिल पा रहा है। जिससे देश व प्रदेश वासियों में असंतोष बना हुआ है। ट्रेड यूनियन के अधिकारों पर हमला किया जा रहा है और निजीकरण की दिशा में पहल किया जा रहा है, जिसे किसी भी दशा में उचित नहीं कहा जा सकता है।

खबरें और भी हैं...