नेशनल लोक अदालत:3 करोड़ रुपए से ज्यादा के अवार्ड पारित 984 प्रकरणों का राजीनामा से निराकरण

शाजापुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
नेशनल लोक अदालत में प्रकरणों की जानकारी लेते न्यायाधीश। - Dainik Bhaskar
नेशनल लोक अदालत में प्रकरणों की जानकारी लेते न्यायाधीश।

शाजापुर सहित तहसील मुख्यालयों पर नेशनल लोक अदालत का आयोजन शनिवार को हुआ। इसमें 984 प्रकरण निराकृत हुए। वहीं 3 करोड़ 97 लाख 32 हजार 958 रुपए के अवार्ड पारित हुए। 1436 से अधिक व्यक्ति लाभान्वित हुए। नेशनल लोक अदालत में जिले एवं तहसीलों को मिलाकर कुल 23 न्यायिक खंडपीठ बनाई गई थी। शुभारंभ प्रधान जिला न्यायाधीश एवं जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के अध्यक्ष काशिफ नदीम खान ने किया। लोक अदालत के दौरान प्रधान जिला न्यायाधीश खान ने जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के सचिव राजेंद्र देवड़ा एवं विशेष न्यायाधीश मोहम्मद अजहर के साथ प्रत्येक खंडपीठ एवं विभिन्न विभागों का निरीक्षण कर पक्षकारों को राजीनामा करने के लिए प्रेरित। राजीनामा करने वाले पक्षकारों ने एक-दूसरे को माला पहना कर

विवादों को समाप्त किया। वहीं राजीनामा करने वाले पक्षकारों को हर घर तिरंगा अभियान के तहत राष्ट्रीय ध्वज तिरंगा प्रदान किया गया। लोक अदालत में कुल 12609 प्रकरण समझौते के लिए रखे गए थे। इसमें से प्री-लिटिगेशन के 8569 में से 475 प्रकरणों का निराकरण हुआ। इन प्रकरणों में 3393445 रुपए राजस्व प्राप्त हुआ। इसी प्रकार न्यायालय में 4 हजार 40 लंबित प्रकरण में से 509 लंबित प्रकरणों का निराकरण हुआ। इसमें 3 करोड़ 63 लाख 39 हजार 513 राशि जमा हुई। इस प्रकार कुल 984 न्यायालयीन प्रकरणों में राजीनामा करवाया गया। जिसमें 3 करोड़ 97 लाख 32 हजार 958 रुपए अवार्ड राशि वसूल की गई। वहीं पारिवारिक विवादों के 416 मामलों में से 75 का निराकरण किया गया।

इस दौरान विशेष न्यायाधीश एवं प्रभारी नेशनल लोक अदालत मोहम्मद अजहर, जिला न्यायाधीश नीतुकांता वर्मा, ब्रजेश गोयल, प्रवीण शिवहरे, अनिल कुमार नामदेव, आशीष परसाई, आदिल अहमद खान, हर्षिता जैन, डॉ. स्वाति चौहान, अनिरुद्ध जैन, उर्वशी यादव, जिला विधिक सहायता अधिकारी फारूक अहमद सिद्दिकी, अधिवक्ता संघ के अध्यक्ष कमल श्रीवास्तव आदि मौजूद थे।

खबरें और भी हैं...