श्रृंगार का महत्व:महाकाल ही हवेली में किया गया आर्कषक श्रृंगार

शुजालपुर13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

हर बार की तरह इस बार भी नगर के युवा मनोज नेमा द्वारा एकादशी के बाद पड़ने वाले प्रदोष पर मंडी स्थित महाकाल की हवेली पर विशेष रूप से श्रृंगार किया गया। इस दौरान उनके द्वारा भगवान महाकाल जलधारी में लगातार पानी बहता हुआ श्रृंगार कर इसको मनमोहक बनाया गया। जिसको मंदिर में दर्शन करने वाले श्रद्धालुओं द्वारा काफी सराहा गया।

मनोज नेमा द्वारा प्रतिमाह प्रदोष पर भगवान महाकाल विभिन्न प्रकार की मुद्रा मे श्रृंगार किया जाता है। जिसके चलते इस बार उनके द्वारा यह श्रृंगार किया गया। इस बारे में मंदिर के पुजारी संजय शर्मा ने बताया कि प्रदोष पर इस प्रकार के श्रृंगार का महत्व रहता है और महाकाल की हवेली में प्रत्येक प्रदोष पर इसी प्रकार का श्रृंगार किया जाता है।

खबरें और भी हैं...