चुनाव में वीवीपैट का नहीं होगा उपयोग:नगर पालिका और नगर पंचायत चुनाव में वीवीपैट, प्रॉक्सी वोट का भी नहीं होगा उपयोग

शिवपुरी2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

पहली बार नगरीय निकाय और नगर पंचायतों के चुनाव में वीवीपैट का उपयोग नहीं होगा इसके साथ ही प्रॉक्सी वोट भी नगरीय निकाय चुनाव में नहीं डलेगा। इस पूरी प्रक्रिया से अवगत कराने के लिए शहर के श्रीमंत माधवराव सिंधिया शासकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय शिवपुरी में नगरीय निकाय चुनाव कराने कर्मचारियों को मास्टर ट्रेनर में प्रशिक्षित किया और उन्होंने इस चुनाव के दौरान बरती जाने वाली सावधानियां और किस तरह से पंचायत चुनाव से नगरीय निकाय का चुनाव भिन्न है इस संबंध में विस्तार से जानकारी दी।

दरअसल शिवपुरी जिले में नरवर नगर पंचायत को छोड़ दें तो जिले की शेष नगर पंचायत है और शिवपुरी नगर पालिका के लिए पार्षदों का चुनाव किया जाना है पूरी मतदान की प्रक्रिया ईवीएम के जरिए होगी लेकिन इस बार वीवीपैट का उपयोग नहीं किया जाएगा पंचायत चुनाव की प्रक्रिया इससे भिन्न रही है क्योंकि वहां पर वैलेट पेपर के जरिए मतदान होना है जबकि नगरीय निकाय और नगर पंचायतों के चुनाव में सीधा-सीधा ईवीएम का उपयोग होगा जिसमें पहले भी आप विधानसभा चुनाव नगरीय निकाय चुनाव और लोकसभा चुनाव ईवीएम के जरिए करा चुके हैं।

ईवीएम के उपयोग में मतदान के दौरान क्या सावधानियां बरतनी होती है और किस तरह से आप इसका उपयोग कर सकते हैं पिछली बार भी आपको भली भांति समझाया गया था और आपने बेहतर ढंग से मतदान की प्रक्रिया को जिले में संपन्न कराया था ठीक उसी तरह से इस बार फिर से नगरीय निकाय में अपनाई जाने वाली ईवीएम प्रक्रिया के साथ हम आपको उसके उपयोग और मतदान प्रक्रिया के पूर्ण होने के बाद किस तरह से उसे बंद करना है उसका उपयोग भी सिखा रहे हैं।

इसे आप गंभीरता से समझिए क्योंकि मतदान दल में आपकी ड्यूटी लगेगी और चुनाव के दौरान आपको पूरी मतदान प्रक्रिया से प्रत्याशियों के एजेंटों को भी अवगत कराना पड़ेगा। किसी भी तरह की कोई आशंका परेशानी या समस्या मतदान के दौरान आती हो तो उसे अभी समझ लीजिए क्योंकि मतदान स्थल पर सिर्फ आप होंगे और आपको पूरी प्रक्रिया को निष्पक्ष ढंग से कराना है। हालांकि यह सब पुरानी ही प्रक्रिया है, बस इस बार वीवीपैट का उपयोग नहीं है।

प्रशिक्षण को गंभीरता से लें, बहुत आवश्यक और विषम परिस्थिति हो तो ही छुट्टी लें
प्रशिक्षण दे रहे मास्टर ट्रेनर ने सभी कर्मचारियों को आगाह करते हुए कहा कि चुनाव तत्काल होता है और इसमें लापरवाही बरतना आपकी नौकरी पर भी खतरा पैदा कर सकता है। इसलिए किसी भी प्रशिक्षण को आप गंभीरता से लें। और बेवजह छुट्टी ना लें। यदि आवश्यक है और विषम परिस्थिति है, तो आप छुट्टी का उपयोग कर सकते हैं।

लेकिन सरकार आपको सरकारी कामों को कराने की तनख्वाह देती है। ऐसे में यदि हम खुद लापरवाही बरतेंगे गे तो फिर यह शासकीय काम के साथ बेईमानी होगी। इसलिए सभी कर्मचारी अपना काम निष्पक्ष और ईमानदारी ढंग से करें, ताकि हर साल की भांति शिवपुरी जिले की रिपोर्ट कर्मचारियों की बेहतर बने।

प्रॉक्सी वोट का प्रयोग कर बताया वोट का उपयोग
चुनाव की ट्रेनिंग दे रहे मास्टर ट्रेनर ने प्रशिक्षण ले रहे कर्मचारियों को बताया कि इस बार प्रॉक्सी बोट अर्थात (अपनी जगह वोट डालने के लिए किसी दूसरे को नियुक्त करना) इस प्रकार का सिस्टम नहीं है। उदाहरण देते हुए मास्टर ट्रेनर ने कर्मचारियों को समझाया कि जैसे यदि कोई फौजी को अपना वोट डालना है, तो पहले वह प्रॉक्सी बोट के रूप में अपना वोट डाल सकता था। पर इस बार प्रॉक्सी वोट का प्रावधान नहीं है।

लापरवाह कर्मचारियों को मिल चुके हैं नोटिस
प्रशिक्षण लेने आए कर्मचारियों को यह भी बताया गया कि पंचायत चुनाव में जिन कर्मचारियों ने प्रशिक्षण के दौरान लापरवाही बरती या बहानेबाजी कि ऐसे 80 कर्मचारियों को नोटिस जारी हो चुके हैं। इनमें से कुछ के वेतन भी कटे हैं। इसलिए कर्मचारियों को निष्पक्ष ढंग से मतदान कराना है और अपनी जिम्मेदारी का परिचय देना है। इसके बाद मौजूदा प्रशिक्षणार्थी कर्मचारियों की हाजिरी रजिस्टर पर हाजिरी ली गई और उनका पूरा डाटा संकलित भी किया गया।

खबरें और भी हैं...