कोयले के काले कारोबार पर शिकंजा:10 करोड़ रुपए से ज्यादा का कोयला अवैध रूप से रखा था, जप्त

सिंगरौली8 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

सिंगरौली जिले में कोयले के काला कारोबार पर प्रशासन का शिकंजा, अवैध रूप से भंडारित लगभग 10 करोड़ रुपए से ज्यादा का कोयला जप्त, सिंगरौली- कलेक्टर आर आर मीना के निर्देशन में खनिज , राजस्व व पर्यावरण विभाग की संयुक्त टीम ने शुक्रवार को बरगवां क्षेत्र के ग्राम कनई व डगा में बिना किसी वैधानिक अनुमति के भंडारित दो कोयला संग्रहण ठिकानों पर छापामार कर कुल 7 हजार मीट्रिक टन कोयला जप्त किया है। संयुक्त दो टीम की दिन से जारी ताबड़तोड़ कार्रवाई से अवैध कोयला भंडारण व संग्रहणकर्ताओं के बीच हड़कंप है। खनिज अधिकारी ए के राय ने बताया कि बरगवां रेलवे साइडिंग के नजदीक ग्राम डगा स्थित निजी भूमि पर संगीता सेल्स प्रा. लिमिटेड के पास से भंडारित 4000 मीट्रिक टन कोयला व ग्राम कनई में एमपीपीजीसीएल फर्म द्वारा भंडारित 3000 मीट्रिक टन कोयले को जप्त किया गया है। भंडारण कर्ता कंपनियों द्वारा बिना किसी वैधानिक अनुमति के कोयले का भंडारण किया गया था और भंडारित कोयला परिसर क्षेत्र में पर्यवारण एवं प्रदूषण के रोकथाम हेतु विंड ब्रेकिंग वाल, पानी छिड़काव एवं हानिकारक पानी निकासी आदि हेतु कोई उपाय नही पाए गए इसके अलावा केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड द्वारा जारी गाइड लाइन का पालन भी नही करना पाया गया। कंपनियों द्वारा एनसीएल सिंगरौली से कोयला क्रय कर बरगवां रेलवे साइडिंग के नजदीक बिना वैध अनुमति के भंडारण करने पर कार्रवाई की गई है।
बीते दिन भी हुई थी बड़ी कार्रवाई
दो कोयला भंडारण कर्ता कंपनी के विरुद्ध मध्यप्रदेश अवैध(खनन, परिवहन तथा भंडारण का निवारण) नियम 2006 के तहत प्रकरण दर्ज किया गया है। गौरतलब है कि उक्त अमले द्वारा बीते दिन गुरुवार को ग्राम पंचायत नोढिया में 8 कोयला संग्रहणकर्ता कंपनियों से 41 हजार 500 मीट्रिक टन कोयला जप्त कर संबंधित कंपनियों के खिलाफ कार्रवाई की गई थी।

खबरें और भी हैं...