विस्थापित को नहीं मिली नौकरी:सिंगरौली में 10 साल से कलेक्टकर कार्यालय के चक्कर लगा रहा किसान, जानिए क्या है मामला

सिंगरौली3 महीने पहले

सिंगरौली जिले में भू विस्थापित नौकरी पाने के लिए 10 वर्षों से कलेक्टर की जनसुनवाई में चक्कर लगा रहा है। उसे हर जनसुनवाई में सिर्फ आश्वासन दिया जाता है कि जॉब मिल जाएगी, लेकिन उसे कंपनी प्रबंधन जॉब देने से इंकार कर देता है।

जिले के रिलायंस शासन पावर प्रोजेक्ट के लिए शासन व सिद्धि खुर्द गांव के लोगों की जमीन कंपनी ने कम दाम पर ली थी। उसके बदले में वहां के प्रभावित लोगों को न तो नौकरी मिली और न ही रोजगार भत्ता। प्लांट में नौकरी पाने के लिए सिद्धिखुर्द निवासी भगवान दास शाह 10 वर्षों से डीएम की जनसुनवाई के चक्कर लगा रहा है। उसे आज तक नौकरी नहीं मिल पाई है।

भगवान दास ने बताया कि वह कंपनी से विस्थापित है, नौकरी की पात्रता रखता है। 10 वर्षों से सिर्फ डीएम के द्वारा आश्वासन दिया जा रहा है। डीएम ने कई बार कंपनी प्रबंधन को इस बारे में पत्र भी जारी कर चुके हैं। डीएम के निर्देश के बाद भी कंपनी प्रबंधन नौकरी देने से इंकार कर रहा है। हमें नौकरी नहीं मिलती तो आत्महत्या करने के लिए बाध्य होना पड़ेगा। इस मामले में डीएम राजीव रंजन मीणा ने कहा कि कंपनी प्रबंधन को इस बारे में आदेशित किया गया है।

खबरें और भी हैं...