• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Tikamgarh
  • District Panchayat Vice President Raised The Issue Of Corruption In Khargapur, Chairman Walkout From The Meeting

सामान्य सभा की पहली ही बैठक हंगामेदार रही:जिला पंचायत उपाध्यक्ष ने खरगापुर में भ्रष्टाचार का मुद्दा उठाया, बैठक से अध्यक्ष का वॉकआउट

टीकमगढ़2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
जिला पंचायत अध्यक्ष को बैठक में वापस चलने के लिए मनाते अधिकारी। - Dainik Bhaskar
जिला पंचायत अध्यक्ष को बैठक में वापस चलने के लिए मनाते अधिकारी।

5 महीने पहले जिला पंचायत के चुनाव में प्रदेश की पूर्व सीएम उमा भारती की बहू और खरगापुर विधायक राहुल सिंह की पत्नी उमिता सिंह जिला पंचायत अध्यक्ष चुनी गईं। इसके बाद मंगलवार 29 नवंबर को हुई सामान्य सभा की पहली ही बैठक हंगामेदार रही। बैठक में जिपं उपाध्यक्ष श्याम रतन भक्ति तिवारी लेट पहुंचे। इसी बीच गौशाला के एजेंडे को लेकर चर्चा चल ही रही थी कि जिपं उपाध्यक्ष तिवारी ने कहा कि बल्देवगढ़ में गरीबों के बीपीएल कार्ड नहीं बनाए जा रहे हैं, इसी तरह की समस्या खरगापुर और पलेरा में भी है।

जिस पर जिला पंचायत अध्यक्ष बोलीं कि आप मुद्दे की बात कीजिए, जिस पर उपाध्यक्ष बोले गरीब का कोई मुद्दा नहीं है क्या। तिवारी ने तहसीलदारों पर भ्रष्टाचार का आरोप लगाते हुए कहा कि मुख्यमंत्री जनसेवा समस्या निवारण शिविरों में सिर्फ दिखावे के लिए एक दो लोगों के बीपीएल कार्ड बनाए गए। जबकि इस समय खरगापुर विधानसभा की तीनों तहसील में बीपीएल कार्ड बनवाने के एवज में 5-10 हजार रुपए लिए जा रहे हैं।

उपाध्यक्ष तिवारी का इतना कहते ही अध्यक्ष श्रीमती सिंह बोलीं कि आप अनुमति लेकर अपनी बात रखिए, इसी बीच दोनों के बीच तीखी नोंक झोंक हुई और अध्यक्ष जिला पंचायत सभाकक्ष से दोपहर 12.44 बजे वॉकआउट करके बाहर चली गईं। इसके बाद पीछे से कुछ अधिकारी जिपं अध्यक्ष को मनाने के लिए हाथ जोड़ते नजर आए, अधिकारियों के मना मनव्वल के बाद जिपं अध्यक्ष श्रीमती सिंह बोलीं कि मेरी बिना अनुमति के बैठक में कोई नहीं बोल सकता है।

गौरतलब है कि बीते दिनों जिपं उपाध्यक्ष श्याम रतन तिवारी का एक वीडियो वायरल हुआ था। जिसमें वह हमारी मजबूरी थी कि हमने वोट कहां दिया, लेकिन उस पर अब सफाई न देने की बात कहते नजर आए थे। साथ ही उन्होंने वीडियो में कहा था कि व्यक्ति जीवन में जो नहीं करना चाहता वह भी करना पड़ता है। वर्तमान की राजनीति को लेकर भी उन्होंने टिप्पणी की थी। साथ ही कहा था मैंने तो जिपं अध्यक्ष उमिता सिंह के पक्ष में वोट दिया था, जबकि जिपं सदस्य के चुनाव में अध्यक्ष के पति व खरगापुर विधायक राहुल सिंह ने मुझे चुनाव हराने का पूरा प्रयास किया था।

पहली बैठक के दौरान इन मुद्दों पर हुई चर्चा

  • नवीन जिला पंचायत भवन निर्माण के लिए प्रस्ताव भेजे जाने पर चर्चा की गई।
  • लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग अंतर्गत क्रियान्वित होने वाली योजनाओं जिनमें जल जीवन मिशन अंतर्गत नवीन-पुरानी नलजल योजनाओं के संचालन व संधारण के अलावा ग्राम पंचायतों में नवीन हैंडपंप खनन कराए जाने पर चर्चा की गई।
  • मनरेगा योजना अंतर्गत स्वीकृत निर्माण कार्यों को लेकर चर्चा।
  • स्वच्छ भारत मिशन योजना ग्रामीण अंतर्गत क्रियान्वित होने वाले कार्यों को लेकर चर्चा।
  • प्रधानमंत्री पोषण शक्ति निर्माण योजना (मध्यान्ह भोजन कार्यक्रम) अंतर्गत ग्रामीण क्षेत्र में संचालित स्कूलों, आंगनबाड़ी केन्द्रों में वितरित होने वाले पोषण आहार पर चर्चा।
  • शिक्षा विभाग अंतर्गत संचालित शासकीय योजनाओं एवं स्कूलों में अध्ययन छात्र-छात्राओं को प्राप्त होने वाली शासकीय योजनाओं-व्यवस्थाओं को लेकर बात हुई।
  • बान-सुजारा बांध की नहर में वाल्ब न होने से किसानों की समस्याओं पर चर्चा हुई।
  • किसानों के बिजली बिल को लेकर चर्चा की गई। जिसमें कहा गया कि इस समय अस्थायी कनेक्शन के 9 से 12 हजार रुपए बिजली विभाग ले रहा है, जबकि पिछले साल 3500 से 4 हजार रुपए किसानों से लिए थे।
खबरें और भी हैं...