• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Tikamgarh
  • DRM Office Gave Clarification On Children's Ticket, Jhansi Public Relations Department Said It Is Not Mandatory For Children Up To 5 Years To Take Tickets

5 साल तक के बच्चों को फ्री रेल यात्रा:बच्चों के टिकट पर डीआरएम दफ्तर ने दी सफाई, झांसी जनसंपर्क विभाग ने कहा- 5 साल तक के बच्चों को टिकट लेना अनिवार्य नहीं

टीकमगढ़एक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

रेल यात्रा के दौरान 5 साल तक के बच्चों के टिकट लेने के मामले में रेल मंत्रालय ने सफाई दी है। डीआरएम कार्यालय झांसी के जनसंपर्क विभाग ने इस संबंध में बुधवार शाम 6:30 बजे प्रेस विज्ञप्ति जारी की है। इसमें कहा गया है कि 5 साल से कम आयु के बच्चों के लिए टिकट लेना अनिवार्य नहीं है। बच्चों के लिए सीट बुक करने पर ही यह नियम लागू रहेगा। रेल मंत्रालय ने कहा है कि यदि 5 वर्ष से कम आयु के बच्चों के लिए सीट की मांग की जाती है, तो पूर्ण वयस्क किराया वसूल किया जाएगा।

रेलवे डीआरएम झांसी के जनसंपर्क विभाग की ओर से जारी किए गए प्रेस नोट में लिखा है कि ट्रेन में यात्रा करने वाले बच्चों के लिए टिकट बुकिंग संबंधी नियम में कोई बदलाव नहीं हुआ हैं। यात्रियों के लिए 5 साल से कम उम्र के बच्चों के लिए टिकट खरीदना और बर्थ बुक करना वैकल्पिक है। 5 साल से कम उम्र के बच्चों के लिए मुफ्त यात्रा की अनुमति है, यदि कोई बर्थ बुक नहीं की गई है।

रेल मंत्रालय ने नहीं किया बदलाव

भारतीय रेलवे ने ट्रेन में यात्रा करने वाले बच्चों के लिए टिकटों की बुकिंग के संबंध में कोई बदलाव नहीं किया है। यात्रियों की मांग पर उन्हें टिकट खरीदने और अपने 5 साल से कम उम्र के बच्चे के लिए बर्थ बुक करने का विकल्प दिया गया है। अगर वे अलग बर्थ नहीं चाहते हैं, तो यह सुविधा निशुल्क है, जैसे पहले हुआ करता था।

5 साल तक के बच्चों को फ्री यात्रा

रेल मंत्रालय के 6 मार्च 2020 के एक परिपत्र में कहा गया है कि पांच साल से कम उम्र के बच्चों को मुफ्त में ले जाया जाएगा। हालांकि, अलग बर्थ या सीट नहीं दी जाएगी। इसलिए किसी भी टिकट की खरीद की आवश्यकता नहीं है। बशर्ते अलग बर्थ की मांग नहीं की जाए। यदि 5 वर्ष से कम आयु के बच्चों के लिए स्वैच्छिक आधार पर बर्थ/सीट की मांग की जाती है, तो पूर्ण वयस्क किराया वसूल किया जाएगा।

खबरें और भी हैं...