• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Tikamgarh
  • Ritesh Bhadaura Said Court Only Issued Summons, Advocate Said Case Registered In Court, Will Have To Be Presented On November 28

भाजपा नेता पर धोखाधड़ी का मामला:रितेश भदौरा ने कहा- न्यायालय ने सिर्फ समंस जारी किया, अधिवक्ता बोले- कोर्ट में मामला पंजीबद्ध, 28 नवंबर को होना पड़ेगा पेश

टीकमगढ़17 दिन पहले

फर्जी शपथ पत्र देकर सहकारी संस्था में प्लॉट लेने के मामले में न्यायालय ने भाजपा जिला उपाध्यक्ष रितेश भदौरा और उनकी पत्नी रिंकी भदौरा महिला मोर्चा जिला महामंत्री के खिलाफ न्यायालय में मामला पंजीबद्ध किया है। मामले की शिकायत सरकारी कर्मचारी गृह निर्माण समिति के पूर्व अध्यक्ष गोकुल प्रसाद यादव ने न्यायालय में दर्ज कराई थी। इस मामले में भाजपा नेता रितेश भदौरा ने अपना पक्ष रखा है।

उन्होंने कहा कि न्यायालय ने एक पुराने मामले में समंस जारी किया है। जिसके आधार पर 28 नवंबर को मैं न्यायालय में पेश होकर अपना पक्ष रखूंगा। जबकि इस मामले में शिकायतकर्ता पक्ष के अधिवक्ता पुरुषोत्तम तिवारी ने बताया कि न्यायालय ने स्वयं संज्ञान लेते हुए धारा 420, 34 के तहत मामला पंजीबद्ध किया है। इस मामले में भाजपा नेता को 28 नवंबर को न्यायालय में पेश होने के निर्देश दिए गए हैं।

क्या है मामला

दरअसल शहर के मऊ चुंगी रोड पर सरकारी कर्मचारी गृह निर्माण समिति का गठन उप पंजीयक कार्यालय सहकारी संस्थाएं में साल 30 मार्च 1981 को कराया गया था। संस्था ने 8.3 एकड़ भूमि खरीदी। संस्था के संविधान के तहत सस्ते दामों पर भूखंड आवंटित किए गए। 10 फरवरी 2018 को रिंकी की पत्नी रितेश भदौरा ने सदस्य बनने के लिए संस्था में शपथ पत्र पेश किया।

जिसमें उन्होंने स्वयं, पति और बच्चों के नाम किसी भी अन्य संस्था में शामिल नहीं होने और शहर में कहीं भी प्लॉट या मकान नहीं होने की बात कही। इस शपथ पत्र के आधार पर संस्था ने उन्हें सदस्यता देकर भूखंड आवंटित कर दिया था। जबकि रितेश भदौरा के पास शहर में दो प्लॉट और पुश्तैनी मकान जांच में निकले है।

न्यायालय ने आदेश में क्या लिखा

इस मामले में न्यायालय ने जो आदेश जारी किया है उसमें लिखा है कि रिंकी पत्नी रितेश भदौरा के खिलाफ धारा 420, 34 के तहत दंडनीय अपराध का संज्ञान लिया जाता है। प्रकरण आपराधिक पंजी एवं सीआईएस में दर्ज किया जाए। परिवादी द्वारा तलवाना प्रस्तुत करने पर अभियुक्त गण को जरिए समंस तलब किया जाए। उक्त प्रकरण अभियुक्त गण की उपस्थिति के लिए 28 नवंबर को पेश हो।

खबरें और भी हैं...