पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

घर-घर जाकर लार्वा सर्वे:नपा, राजस्व और स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी व कर्मचारियों ने दो घंटे घर-घर किया लार्वा सर्वे

आगर मालवा11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
लार्वा सर्वे कर टंकी खाली करते कर्मचारी। - Dainik Bhaskar
लार्वा सर्वे कर टंकी खाली करते कर्मचारी।
  • जिले में डेंगू हद से बाहर पहुंचा और मुख्यमंत्री ने संज्ञान लिया, तब हुई प्रशासन में हलचल

जिले में बेकाबू होता डेंगू और सैकड़ों प्रभावित लोगों के साथ एक डॉक्टर सहित तीन की मौत के बाद अब तक चुप्पी साधे बैठे जिला प्रशासन ने मुख्यमंत्री के संज्ञान लेने के बाद ही सही इस दिशा में कदम उठाना शुरू किया है। रविवार को नगर पालिका, राजस्व और स्वास्थ्य विभाग के करीब डेढ़ दर्जन से अधिक आला अधिकारी कर्मचारी 2 घंटे तक शहर की सड़कों पर घूमते हुए नजर आए, इस बीच उनके द्वारा छावनी सदर बाजार, मार्केट मोहल्ला क्षेत्र, मस्जिद गली क्षेत्र में लार्वा सर्वे की कार्रवाई की।

कई घरों से जमा पानी को बाहर निकाला और सड़कों पर बहा दिया, प्रशासन की सख्त कार्रवाई के चलते कई जगह पानी की टंकियों में तोड़फोड़ भी की गई, जिसके कारण प्रशासन और आम लोगों के बीच तीखी नोकझोंक की नौबत खड़ी हो गई। डेंगू प्रभावित प्रमुख 7 जिलों में आगर मालवा चौथे स्थान पर है। यहां पर कुल 179 लोग इससे प्रभावित है। हाल ही में डेंगू से जिला अस्पताल आगर में पदस्थ एक डॉक्टर की भी मौत हो चुकी है और इससे पूर्व भी दो लोगों की मौत हो चुकी है। इसके बाद सैकड़ों लोग डेंगू से पीड़ित है।

शासकीय अस्पताल हो या निजी अस्पताल कहीं भी बेड खाली नहीं है और हर कहीं डेंगू पीड़ित अपना उपचार कराता दिखाई दे रहा है, ऐसे में जिम्मेदार प्रशासन की लापरवाही की अब तक न तो डेंगू को रोकने के लिए कोई सख्त कदम उठाया गया और न किसी प्रकार से कोई कार्रवाई की गई। इस कारण डेंगू पीड़ितों का शासकीय आकड़ा 19 तक पहुंच गया और प्रदेश में जिला चौथे नंबर पर आ गया।

मुख्यमंत्री द्वारा संज्ञान लिया और फिर जिला प्रशासन में हलचल दिखाई दी और शनिवार को कार्यशाला आयोजित करने के बाद रविवार को सीएमएचओ एसएस मालवीय, एसडीएम राजेंद्र रघुवंशी, जिला मलेरिया अधिकारी प्रेमलता डॉबी, शहरी विकास परियोजना अधिकारी एस कुमार, नपा लेखा अधिकारी जसवंत नरवाल, स्वच्छता निरीक्षक बसंत डूलगज एवं महिला बालविकास अधिकारी सहित स्वास्थ्य व नपा के कर्मचारी सुबह 10.30 बजे छावनी सदर बाजार पहुंचे, जहां उनके द्वारा लोगों को समझाइश दी और लार्वा नष्ट करने की कार्रवाई की गई। यहां हम्माल गली में नाली के ऊपर ओटला पर बाउंड्री बनाने मिलने पर अतिक्रमण हटाकर हिदायत दी गई।

इसी तरह नाली के ऊपर बने ओटलों को हटाने के लिए नपा को निर्देशित भी किया। उनके द्वारा छावनी क्षेत्र के मार्केट मोहल्ला में सर्वे किया गया तो लोगों ने नपा कर्मचारियों पर सफाई व्यवस्था नहीं करने का आरोप लगाते हुए बताया कि सफाई नहीं होने से यहां गंदगी बनी रहती है, इस कारण डेंगू फैल रहा है। अधिकारियों ने नपा कर्मचारियों को सफाई व्यवस्था के लिए कहा। यहां कुछ घरों में लार्वा मिलने पर जब नष्ट करने की कार्रवाई की गई तो लोगों की पानी की टंकी फोड़ दी गई जिससे रहवासियों द्वारा रोष प्रकट भी किया गया।

12 लाख खर्च कर खरीदी 6 फॉगिंग मशीन
जिले में फेल रहे डेंगू की रोकथाम के लिए प्रशासन के हरकत में आने के बाद आनन फानन जिले के लिए करीब 12 लाख रुपए खर्च कर 6 फॉगिंग मशीन भोपाल से क्रय की गई है जो कि जिले को मिल चुकी है। शहरी विकास परियोजना अधिकारी एस कुमार ने बताया कि डेंगू के बढ़ते प्रभाव को रोकने के लिए यह मशीन खरीदी गई है जिसमें दो मशीन 88 टार्च वाली है जिससे पांच घंटे में पूरे नगर में फॉगिंग की जा सकती है। चार मशीन हाथ वाली है। दो बड़ी मशीन आगर और नलखेड़ा के लिए एवं बाकी चार हाथ वाली मशीन सुसनेर, बड़ागांव, बड़ौद और सोयत के लिए क्रय की गई है।

किल कोरोना की टीम करेगी घर-घर सर्वे
कोरोना की रोकथाम के लिए जो टीम बनाई गई थी, वही टीम अब डेंगू की रोकथाम के लिए शहर सहित ग्रामीण क्षेत्रों में कार्य करेगी। घर-घर जाकर डेंगू लार्वा सर्वे कर टीम द्वारा जहां लार्वा मिलेगा वहां लार्वा को नष्ट करने की कार्रवाई की जाएगी। एसडीएम रघुवंशी ने बताया कि बड़े-बड़े पानी के टैंक में दवाई डाली जाएगी ताकि लार्वा नष्ट हो जाए। नगर पालिका द्वारा पूरे शहर में फागिंग कर डेंगू के कारक मच्छर को मारने की कार्रवाई की जाएगी।

खबरें और भी हैं...