प्रशासन अलर्ट / कोरोना के एक्टिव मरीज 9 से बढ़कर 13 हुए, आरडी गार्डी अस्पताल पहुंचाया, अब 51 की रिपोर्ट बाकी

Corona's active patients increased from 9 to 13, RD Gardi to hospital, report now 51
X
Corona's active patients increased from 9 to 13, RD Gardi to hospital, report now 51

  • कंटेनमेंट क्षेत्र गुर्जर सेरी, शिव घाट क्षेत्र में 130 परिवारों को दिया काढ़ा

दैनिक भास्कर

May 23, 2020, 05:00 AM IST

बड़नगर. गुर्जर सेरी में गुरुवार रात में 9 कोरोना संक्रमण आने से अब शहर में एक्टिव केसों की संख्या 13 हो गई है। सभी पॉजिटिव को उज्जैन आरडी गार्डी अस्पताल रैफर कर दिया। एसडीएम एकता जायसवाल ने बताया अब 6 कंटेनमेंट एरिया हो गए हैं। कोरोना सेंपलिंग 51 लोगों की रिपोर्ट मिलना बाकी है। इनमें से 11 लोगों की रिपोर्ट रात तक मिल सकती है। 
एसडीएम जायसवाल के अनुसार आयुष विभाग द्वारा कस्बे में काढ़ा वितरण किया जा रहा है। शुक्रवार को गुर्जर सेरी, शिव घाट आदि क्षेत्र में 130 परिवारों को काढ़ा वितरण किया गया। 
आज से खुलेंगे तहसील व एसडीएम कार्यालय- शासन द्वारा तहसील एवं एसडीएम कार्यालय को खोलने के आदेश दिए गए। अब राजस्व कार्यालयों में 50 प्रतिशत स्टाफ की उपस्थिति में कार्यालय खोले जाएंगे।
प्रतिष्ठान खोलने से बढ़ी नगर में आवाजाही- शहर मे अधिकांश प्रतिष्ठान खोले जाने से आवाजाही बढ़ गई है। आवागमन से संक्रमण का खतरा बढ़ा है।
ये रखें ध्यान- आवश्यक कार्य के लिए बाजार आने वाले व्यक्ति को मास्क  और सैनिटाइजर साथ में लेकर निकलना होगा। व्यवसायियों को अपनी दुकानों पर हाथ धोने के लिए पानी की व्यवस्था, सैनिटाइजर रखना होगा।
होम डिलीवरी में रखे ध्यान- कस्बे में किराना व सब्जी की होम डिलीवरी देने वाले व्यवसायी पहले ऑर्डर लेकर उसकी डिलीवरी करेंगे। किराना व सब्जी पैकिंग में ग्राहकों के घर पर जाकर देना होगी।
निर्माण कार्य पर ये रखें ध्यान- निर्माण कार्य चालू हो गए हैं। निर्माण कार्य में लगे श्रमिकों के लिए सैनिटाइजेशन पर पर्याप्त ध्यान देना होगा। उनकी बार-बार आवाजाही नहीं होगी। एक ही बार अपने कार्यक्षेत्र पर प्रवेश करने के बाद वापस घर जाते समय ही बाहर आएगा।
पहेली बना बिना कांटेक्ट हिस्ट्री के मरीज, घर में ही हो गए संक्रमित
शहर में सबसे ज्यादा संक्रमित मरीज शिवाजी रोड से जुड़े संत तुकाराम पथ पर मिले हैं। अब तक करीब 40 मरीज यहीं सामने आए हैं। जब इनकी कांटेक्ट हिस्ट्री निकाली गई तो पता लगा कि अधिकांश मरीज वेद परिवार के संपर्क में आने से संक्रमण का शिकार हो गए थे। इस कंटेनमेंट क्षेत्र में रहने वाले 21 मरीज ऐसे थे, जो न तो घर से बाहर निकले और न कहीं गए। हाॅट स्पाट बने इस एरिया में रहने के कारण ही वे संक्रमित हो गए। प्रशासन अब तक यह पता नहीं लगा पाया है कि ये किस वजह से संक्रमित हुए। शिवाजी रोड व संत तुकाराम पथ शहर का सबसे ज्यादा संक्रमित एरिया है। हाॅट स्पाट क्षेत्रों में यह पहले नंबर पर बना हुआ है। शुक्रवार को आरआर टीम के स्वास्थ्य अधिकारी यह पता लगाने में जुटे हैं कि लाॅकडाउन के बावजूद मरीज किस कारण संक्रमित हो रहे हैं। मरीज की कांटेक्ट हिस्ट्री पता नहीं लग पा रही है। मरीजों से पूछताछ की गई तो ज्यादातर यह नहीं बता पाए कि वे कैसे संक्रमित हुए।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना