पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Ujjain
  • Gulana
  • Action Should Be Taken Against The Guilty Of Poor Construction Of Stopdam, Otherwise Every Congress Worker Of The District Will Enter The Fray

कार्रवाई की मांग:स्टापडेम के घटिया निर्माण के दोषी पर कार्रवाई हो, नहीं तो जिले का हर कांग्रेस कार्यकर्ता उतरेगा मैदान में

गुलाना20 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
एसडीएम को मांगपत्र सौंपते जिला कांग्रेस अध्यक्ष योगेंद्रसिंह व अन्य। - Dainik Bhaskar
एसडीएम को मांगपत्र सौंपते जिला कांग्रेस अध्यक्ष योगेंद्रसिंह व अन्य।
  • 739 लाख की लागत से बने सेमली के स्टापडेम के घटिया निर्माण के विरोध में किसानों के साथ जिला कांग्रेस भी आई साथ में

सेमली गांव के किनारे कालीसिंध नदी पर 7 करोड़ 39 लाख की लागत से बने स्टापडेम को ठेकेदार ने जिम्मेदारों की मिलीभगत से घटिया निर्माण के घाट उतार दिया। जनता के टैक्स की कमाई से बने इस डेम की बंदरबाट किसानों के हक पर खुलेआम डाका है।

ठेकेदार ने निर्माण का नमूना किसानों को सौंप अपनी तिजोरी भरने का काम किया है। हाथ लगाते ही जब डेम की दीवारों से मटेरियल की धार लग रही है, तो क्या यह जिला प्रशासन के साथ सरकार के जनप्रतिनिधियों को नजर नहीं आ रहा है, लेकिन इस घटिया निर्माण के विरोध में अब क्षेत्र के किसान अकेले नहीं है। जिला कांग्रेस भी उनके साथ दमदारी के साथ खड़ी हुई है।

सेमली के स्टापडेम के घटिया निर्माण के विरोध में ठेकेदार के साथ उसे शरण देने वाले जिम्मेदारों पर बरसते हुए जिला कांग्रेस अध्यक्ष योगेंद्रसिंह बंटी बना ने यह बात कही। स्टाॅपडेम से सेमली, घंूसी, चोंसला मुसलमान के साथ बांगली के 1 हजार से भी अधिक किसानों को सिंचाई में लाभ मिलना है, लेकिन झर-झरकर गिरते इस स्टापडेम की गुणवत्ता ने किसानों को उदास कर दिया है, हालांकि गुस्साए किसान कई दिनों इस घटिया निर्माण की शिकायत कर मोर्चा खोल चूके थे। वहीं बुधवार को जिला कांग्रेस भी किसानों के साथ उनके हक की लड़ाई में उतर आई।

बुधवार को जिला कांग्रेस अध्यक्ष योगेंद्रसिंह बंटी बना अपने कई कार्यकर्ताओं के साथ सेमली के स्टापडेम पहंूचे। यहां पर डेम के घटिया निर्माण को देख वे ठेकेदार पर बरसे। इसके साथ ही उन्होंने एसडीएम को ज्ञापन सौंप कलेक्टर से मांग की है कि जांच कमेटी बनाकर इस घटिया निर्माण की निष्पक्ष जांच कराकर ठेकेदार के साथ इसमें लिप्त दोषियों पर सख्त कार्रवाई कर डेम का पुर्ननिर्माण करवाएं। साथ उन्होंने चेतावनी देते हुए कहा है कि अगर 7 दिनों में दोषियों के खिलाफ कोई बड़ी कार्रवाई नहीं होती है तो फिर जिले का हर कांग्रेस कार्यकर्ता किसानों के हक के लिए सड़क पर उतरने में देर नहीं करेगा।

भ्रष्टाचार के खिलाफ भास्कर ने छेड़ी थी यह मुहिम
सेमली के स्टापडेम में हुए भारी भ्रष्टाचार को लेकर भास्कर ने सबसे पहले इस मामले को उजागर कर गंभीरता से प्रकाशित किया था। इसके बाद भास्कर ने इसे मुहिम बनाकर लगातार कई बार छापा है। भास्कर की मुहिम में काफिला धीरे धीरे जुड़ता गया और भ्रष्टाचारियों को बेनकाब करने वाला कारवां आगे बढ़ता गया। 2 से 3 जुलाई में पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजयसिंह ने भी इस मामले में पहला ट्वीट कर इस भ्रष्टाचार का विरोध किया। चार गांव के सैकड़ों किसान आगे आए और अब जिला कांग्रेस भी किसानों के हक की लड़ाई लड़ने के लिए पूरी तरह से मैदान में उतर आई है।

गाय के नाम पर राजनीति करने वालों को शर्म आना चाहिए
कांग्रेस जिलाध्यक्ष ने साफ तौर पर कहा कि इस डेम की जिस तरह से ठेकेदार द्वारा दुर्गती की गई है, करोड़ों की राशि हड़प ली। यह मामला कांग्रेस व भाजपा का नहीं है। यह तो किसानों के साथ हर उन ग्रामीणों का मामला हैं जो इस मालवा की जीवनदायिनी के पानी से सरोकार रखता हो। मैंने भी इसी नदी का पानी पीया है और में भी किसान ही हंू। हर व्यक्ति को ऐसे भ्रष्टाचारियों को सबक सिखाने आगे आना चाहिए।

साथ ही उन्होंने कहा कि संत पं. कमलकिशोर नागर के आश्रम के ठीक पीछे ही यह करोड़ों की लागत से बना डेम भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ गया है, जबकि आश्रम की गोशाला की हजारों गाय भी इसी नदी का पानी पीती है। भाजपा के नेता गाय के नाम पर राजनीति करते है, लेकिन यहां गायों को सुलभता से पानी उपलब्ध कराने वाले डेम का अस्तित्व ही खतरे में है। फिर अभी तक क्यों भाजपा के जिम्मेदार मौन है?

भ्रष्टाचारियों को दस गज जमीन में गाढ़ने वाले सीएम अब क्यों हैं मौन- सेमली के समीप कालीसिंध नदी पर घटिया निर्माण का शिकार हुए डेम के विरोध में बुधवार को कई किसान व कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने एकजूट होकर जिम्मेदार भ्रष्टाचारियों के खिलाफ अपनी आवाज को बुलंद किया। इस दौरान मो. बड़ोदिया जनपद अध्यक्ष अजबसिंह पंवार व गुलाना ब्लाॅक कांग्रेस अध्यक्ष हीरेंद्रसिंह जादौन ने भी ठेकेदार को जमकर कोंसा।

वहीं शा जापुर जनपद अध्यक्ष प्रतिनिधि भेरूलाल सौराष्ट्रीय ने मुख्यमंत्री शि वराजसिंह चौहान को उनका वादा याद दिलाते हुए कहा कि भ्रष्टाचारियों को दस गज जमीन में गाढ़ देने वाले सीएम अब इतने बड़े भ्रष्टाचार में भी मौन क्यों है। दस गज जमीन में गाढ़ना तो दूर क्या सीएम इन दोषियों को अब चार दीवारी तक पहंुंचा पाएंगे।

खबरें और भी हैं...