बारिश में बढ़ी मुसीबत:महिदपुर की 65 साल पुरानी सब्जी मंडी को मरम्मत की दरकार, ग्राहक-विक्रेता दोनों हो रहे बारिश के सीजन में परेशान

महिदपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

नगर की करीब 65 साल पुरानी खेरची सब्जी मंडी का विकास अधर में अटका हुआ है। मंडी निर्माण से लेकर अब तक इसका विकास तो दुर मरम्मत भी नहीं हो पाई है। जिससे सब्जी मंडी की हालात दिन-ब-दिन बदतर होते जा रहे हैं।

सब्जी विक्रेताओं का कहना है कि मंडी के निर्माण से लेकर अब तक ना जाने कितनी परिषद आई और कितनी गई, लेकिन किसी ने मंडी के विकास की ओर ध्यान नहीं दिया। विक्रेताओं ने बताया कि ठंड, गर्मी का मौसम तो जैसे-तैसे निकल जाता है, लेकिन बरसात में समस्या काफी अधिक बढ जाती है, क्योंकि वर्तमान में मंडी परिसर के शेड में लगे लोहे के चद्दर जर्जर होकर उनमें जंग लगने लगा है।

जिसके कारण शेड में लगे चद्दर जगह-जगह से टुट फूट रहे है। इससे पूरे मंडी परिसर में बरसात का पानी टपक रहा है। जिससे सब्जी विक्रेताओं और ग्राहक दोनों को परेशानी आ रही है। ऐसे में सब्जी मंडी के कायाकल्प की जरूरत है।

बारिश के समय विक्रेताओं का बैठना तक मुश्किल

इधर मंडी परिसर का शेड जर्जर होने के कारण सब्जी विक्रेताओं को हर मौसम में दिक्कतें झेलना पड़ रही हैं। वहीं बारिश के समय विक्रेताओं का बैठना तक मुश्किल हो गया है। ऐसे में विक्रेताओं को बरसाती व टाट बांधकर बारिश से बचाव करना पड़ रहा हैं।

सब्जी विक्रेताओं का कहना हैं कि नगर पालिका के ओर से रोजाना बैठक कर वसूला जा रहा है। लेकिन मंडी की सुविधाओं और मरम्मत की ओर ध्यान नहीं दे रहे है। वर्तमान में मंडी परिसर का शेड जर्जर होने के साथ प्रकाश व्यवस्था का भी अभाव है।

जल भराव से सब्जी मंडी में लोग परेशान

बारिश के बाद मंडी परिसर में हुआ जल भराव नगर की सब्जी मंडी में लोगों को सबसे अधिक समस्या बारिश के माैसम में होती है। जहां एक ओर जर्जर शेड के कारण विक्रेताओं का बैठना मुश्किल हो जाता है।

वहीं बरसात के दौरान मंडी परिसर में जलभराव के चलते आमजन को दिक्कत उठानी पड़ती है, क्योंकि बारिश के मौसम में अक्सर मंडी परिसर में पानी जमा हो जाता है। सोमवार को भी बारिश के बाद मंडी परिसर में जलभराव के चलते सारा गंदा पानी वहीं जमा हो गया।

खबरें और भी हैं...