नेशनल लोक अदालत:पांच साल बाद गले मिले पिता-पुत्र, रोते हुए पिता ने न्यायाधीशों का माना आभार

नागदा8 दिन पहले

पिता-पुत्र के बीच न्यायायल में चल रहे भरण-पोषण का निपटारा शनिवार को नेशनल लोक आदालत में हुआ। 83 वर्षीय मोहम्मदीन खान का विवाद अपने बेटे मुजीब खान से बीते पांच सालों से चल रहा था। जिसे एडवोकेट आरएस चंदेल व राजेश तिवारी के ओर से लड़ा जा रहा था।

दरअसल मोहम्मीदन लंबे समय से किराए के मकान में रहकर अपना गुजर बसर कर रहे थे। बेटे मुजीब के ओर से पिता को साढ़े तीन हजार रुपए दिए जाने की बात कही जा रही थी, लेकिन मोहम्मदीन के ओर से साढ़े पांच हजार रुपए प्रतिमाह की मांग की जा रही थी।

आपसी समझौते के बाद पिता पुत्र ने दोनों को पुष्पमाला पहनाया और गले मिले। इस दौरान अतिरक्त सत्र न्यायाधीश अभिषेक सक्सेना, न्यायाधीश संतोष तिवारी, न्यायाधीश सुनीता ताराम, न्यायाधीश सौम्या गौर, न्यायाधीश हिमांशु पालीवाल ने बेटे को समझाइश देते हुए पिता का ख्याल रखने की बात कही।

प्रकरण में बाकी चल रहे 10 हजार रुपए भी बेटे के ओर से पिता को सौंपे गए। हालांकि पिता अब भी किराए के मकान में रहेंगे। पूर्व में मोहम्मदीन की देखभाल पूर्व नपाध्यक्ष शोभा गोपाल यादव के ओर से की जाती थी।

खबरें और भी हैं...