पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

ग्राउंड रिपोर्ट:5 किमी दूर ही चंबल के पानी का रंग केमिकल से लाल-काला हो गया, चट्‌टानों का रंग तक बदला

नागदाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • जलीय जीवों के साथ यह इंसानों के लिए भी घातक
  • पानी का रंग लाल-काला होना केमिकल वेस्ट मिलने का प्रमाण

चंबल की गोद में एसिड युक्त केमिकल वेस्ट छोड़े जाने के मामले में स्थानीय प्रशासन दावा कर रहा है कि शहर से अब कोई भी वेस्ट केमिकल भरे टैंकर खाली नहीं हो रहे हैं, लेकिन प्रशासन और पुलिस के इस दावे की पड़ताल की गई तो यह दावे खोखले साबित हुए। क्योंकि शहर से कुछ किलोमीटर की दूरी पर ही एसिड युक्त वेस्ट केमिकल छोड़े जाने के कारण चंबल प्रदूषित हो रही है।

स्थिति यह है कि बारिश के बाद पानी कम होते ही नदी के भीतर दिखने वाली चट्टानों का रंग भी घातक एसिड से पूरी तरह सफेद हो चुका है। इधर पुलिस प्रशासन को शक है कि झाबुआ-पेटलावद के टैंकर यहां आकर खाली हो रहे हैं।

भास्कर ने शहर से करीब दो किमी दूर स्थित ग्राम परमारखेड़ी में जाकर चंबल की स्थिति जांची तो प्रशासन के दावे के विपरीत स्थिति मिली। गांव के बीच पड़ने वाले एक नाले में एसिड युक्त केमिकल वेस्ट मिश्रित पानी मिला। परमारखेड़ी से लगभग 2 किमी भीतर नदी के बीच जाकर स्थिति देखी तो वास्तविकता चौंकाने वाली मिली।

बारिश के बाद नदी का जलस्तर कम होते ही नदी के बीच चट्टानें भी साफ दिख रही हैं। वेस्ट केमिकल व एसिड नदी में छोड़ने के कारण चट्टानों का रंग ही पूरी तरह सफेद हो चुका है। नदी में केमिकल वाले टैंकर खाली होने का प्रत्यक्ष प्रमाण यहां पानी का रंग देता है। नदी के पानी का रंग यहां पूरी तरह लाल व काला पड़ चुका है।

यहां गौर करने वाली बात यह भी है कि केमिकल वेस्ट व एसिड युक्त टैंकर नदी में छोड़ने से परमारखेड़ी में कई लोग अलग-अलग तरह की बीमारियों से ग्रसित भी हो चुके हैं। बावजूद प्रशासन द्वारा ध्यान नहीं दिया जा रहा है। हाल ही में यह बात भी सामने आई कि नागदा-उज्जैन की फैक्टरियों द्वारा छोड़ा वेस्ट केमिकल चंबल में मंदसौर में जाकर भी एकत्रित हुआ है। इससे गांधीसागर बैक वाटर के गांवों में पानी में केमिकल की परत जम गई है। किसानों को सिरदर्द, सर्दी-जुकाम जैसी परेशानियां होने लगी है।

टैंकर खाली होने की सूचना मिलती है तो सख्त कार्रवाई

शहर में कहीं भी केमिकल वेस्ट के टैंकर खाली नहीं हो रहे हैं। अगर किसी भी माध्यम से ऐसे टैंकर खाली होने की सूचना मिलती है तो सख्त कार्रवाई की जाएगी। मंदसौर में केमिकल युक्त पानी की परत मिलने के मामले में वरिष्ठ अधिकारी जो भी निर्देश देंगे, उसका पालन किया जाएगा।

-आशुतोष गोस्वामी, एसडीएम, नागदा

गुपचुप टैंकर खाली होने वाले चार स्थान चिह्नित, कैमरे लगाने के लिए भेजा पत्र

पुलिस ने दो महीने पहले वेस्ट केमिकल के दो टैंकर पकड़े थे। उसके बाद अब तक कोई कार्रवाई नहीं हुई। गुपचुप टैंकर खाली होने के पुलिस ने मंडी थाना पुलिस ने उज्जैन-जावरा बायपास, खाचरौद नाका, राजस्थानी ढाबा के पास और इंगोरिया रोड चौराहा स्थान चिह्नित किए हैं।

मंडी थाना प्रभारी श्यामचंद्र शर्मा की ओर से यहां कैमरे लगाने के लिए प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड को पत्र भी लिखा जा चुका है। बोर्ड की पहल पर शहर के प्रमुख उद्योगों के सहयोग से यहां कैमरे लगाने की प्रक्रिया फिलहाल विचाराधीन है।

ट्रांसपोर्टर मुनाफा कमाने के लिए टैंकरों को नदी-नालों में ही खाली कर देते हैं

वेस्ट केमिकल को एक ऐसी जगह डिस्पोज किया जाता है, जहां कोई डिस्पोजल से कोई खतरा न हो। उद्योगों द्वारा ट्रांसपोर्टर को इसके लिए ठेका दिया जाता है। दूरी के हिसाब से एक निश्चित भाड़ा भी ट्रांसपोर्टर को दिया जाता है।

संबंधित स्थान तक पहुंचने, वहां नंबर लगने और ड्राइवर-क्लीनर के खर्च आदि ट्रांसपोर्टर को वहन करना होते हैं। ट्रांसपोर्टर अपना मुनाफा कमाने के लिए इन टैंकरों को आसपास के नदी-नालों में ही खाली कर देते हैं। ताकि उनका खर्च बच सके और उन्हें अधिक मुनाफा हो सके।

अगर नदी के पानी का रंग लाल-काला हो रहा तो केमिकल वेस्ट मिलने का प्रमाण

नदी के पानी का रंग आमतौर पर हल्का हरा या मिट्टी के रंग की तरह होता है। अगर पानी लाल या काला होने लगे तो यह इस बात का प्रमाण है कि उसमें बेहद घातक केमिकल वेस्ट मिल रहा है। इस पानी का उपयोग सिंचाई में किया जाता है तो इसमें मौजूद विषैले तत्व खाद्य सामग्री तक पहुंच जाते हैं। इनके उपयोग से इंसानों में पेट की बीमारी, सिर दर्द, लीवर व किडनी में समस्या, चर्म रोग आदि समस्याएं आने लगती है।

एक्सपर्ट व्यू: डॉ. डीएम कुमावत, विभागाध्यक्ष, पर्यावरण प्रबंधन अध्ययनशाला, विक्रम विवि

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज भविष्य को लेकर कुछ योजनाएं क्रियान्वित होंगी। ईश्वर के आशीर्वाद से आप उपलब्धियां भी हासिल कर लेंगे। अभी का किया हुआ परिश्रम आगे चलकर लाभ देगा। प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कर रहे लोगों के ल...

और पढ़ें