दो माह में दूसरी घटना:ग्रेसिम केमिकल डिवीजन में हादसा, ठेका श्रमिक की तीन अंगुलियां कटी, गंभीर रूप से घायल हुए श्रमिक को इलाज के लिए इंदौर भेजा

नागदाएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
  • रसायन से भरे ड्रम में गिरी श्रमिक की अंगुलियां, सीएसएफ सेक्शन में हुआ हादसा

ग्रेसिम के केमिकल डिवीजन में मंगलवार को फिर एक हादसा हो गया। जिसमें एक ठेका श्रमिक गंभीर रूप से घायल हो गया। कार्य के दौरान उसके हाथ की तीन अंगुलियां कट गई आैर रसायन से भरे ड्रम में जा गिरी। ताबड़तोड़ घायल श्रमिक को इंदौर के निजी अस्पताल में भर्ती करवाया गया।

जहां अब घायल श्रमिक का ऑपरेशन होगा। दो महीने के भीतर केमिकल डिवीजन में यह दूसरा हादसा है, जिसमें कोई श्रमिक घायल हुआ है। केमिकल डिवीजन के कास्टिक सोड़ा फ्लैक्स (सीएसएफ सेक्शन) में यह हादसा हुआ। जहां ठेका श्रमिक 35 वर्षीय भीमसेन पिता रामलायक यादव कार्य कर रहा था।

इस दौरान उसके साथ दुर्घटना हो गई। उद्योग सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार सीएसएफ सेक्शन में एक बड़ा ड्रम चलता है। ड्रम को बंद किए बगैर ही इसमें काम करने के लिए भीमसेन को एक अधिकारी ने कहा था। जिसके बाद भीमसेन ड्रम को बंद किए बगैर ही काम कर रहा था। इसी दौरान भीमसेन का हाथ ड्रम में उलझ गया।

जिसके कारण उसके हाथ की तीन अंगुलियां कट गई। भीमसेन की कटी हुई अंगुलियां कास्टिक से भरे ड्रम में गिर गई और ड्रम में मौजूद रसायन में घुल गई। हादसे की जानकारी मिलते ही केमिकल डिवीजन के भीतर हड़कंप मच गया। ताबड़तोड़ भीमसेन को जनसेवा अस्पताल में प्राथमिक उपचार के बाद तत्काल इंदौर भेज दिया गया।

इंदौर के टी.चौईथराम हॉस्पिटल में उन्हें भर्ती कराया गया है। बताया जाता है कि भीमसेन ठेकेदार अरुण खेरवार के अधीन फैक्ट्री में काम करता था। इस पूरे मामले में खास बात यह भी है कि हादसे की जानकारी पुलिस को भी नहीं दी गई। बिरलाग्राम पुलिस थाना में मंगलवार शाम तक भी हादसे को लेकर कोई जानकारी नहीं थी।
मार्च में भी प्लांट का प्लेटफॉर्म गिरने से घायल हुआ था मजदूर
केमिकल डिवीजन में 26 मार्च को भी एक हादसा हुआ था। जिसमें न्यू कास्टिक सोडा प्लांट का जर्जर प्लेटफॉर्म गिर गया था। हादसे में प्लेटफॉर्म के ऊपर खड़े ठेका श्रमिक 55 वर्षीय गोवर्धन पिता नानूराम घायल हो गए थे।

गिरने से उनके सिर में गंभीर चोट आई थी और उन्हें भी इंदौर भेजा था। खास बात यह है कि उसी दिन सुबह केमिकल डिवीजन में नेशनल डिजास्टर रिस्पांस फोर्स के संयुक्त तत्वावधान में केमिकल डिवीजन परिसर में एक मॉक ड्रिल का अभ्यास किया गया था। जिसका उद्देश्य भविष्य में होने वाली आपातकालीन दुर्घटनाओं की रोकथाम की व्यवस्था करना था।
प्रबंधन ने कहा - ऑपरेशन के बाद वास्तविक स्थिति पता चल पाएगी
केमिकल डिवीजन प्रबंधन ने भी मरीज के साथ हुए हादसे की पुष्टि की। केमिकल डिवीजन के जनसंपर्क अधिकारी डॉ. अनिल कामलिया ने मामले में बताया कि सीएसएफ सेक्शन में काम करते समय ठेका श्रमिक भीमसेन यादव घायल हुए हैं।

गंभीर घायल होने के कारण उन्हें उपचार के लिए इंदौर भेजा गया है, जहां उनका ऑपरेशन होगा। ऑपरेशन के बाद ही कहा जा सकता है कि उनके स्वास्थ्य की वास्तविक स्थिति क्या है। प्रबंधन के अधिकारी लगातार डॉक्टरों के संपर्क में हैं और श्रमिक के स्वास्थ्य की जानकारी ले रहे हैं।

खबरें और भी हैं...