पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

स्वेच्छा से बंद रखे प्रतिष्ठान:शहर के सभी व्यापारिक संघों ने स्वेच्छा से बंद रखे प्रतिष्ठान

नागदा3 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • उद्योगों की मनमानी के खिलाफ आवाज नहीं उठाने पर भाजपा सरकार और नेताओं को बनाया निशाना

ठेका श्रमिकों को काम पर रखने की मांग को लेकर विधायक दिलीपसिंह गुर्जर के नेतृत्व में शहर कांग्रेस कमेटी द्वारा किए गए स्वेच्छिक नागदा बंद के आह्वान पर बुधवार को शहर मुकम्मल बंद रहा। बंद के दौरान कहीं भी विवाद की स्थिति नहीं बनी। विधायक ने श्रमिक हितों के लिए व्यापारियों के समर्थन पर कृतज्ञता जताते हुए भरोसा दिलाया कि जल्द की कांग्रेस का एक प्रतिनिधिमंडल मुख्यमंत्री, श्रम मंत्री, प्रमुख सचिव और श्रम विभाग के आयुक्त से मुलाकात कर श्रमिकों की वस्तुस्थिति एवं उद्योग प्रबंधन के तानाशाही रवैये से अवगत करायेगा।

विधायक गुर्जर ने एसडीएम पुरुषोत्तम कुमार को ज्ञापन सौंपकर श्रमिकों को जल्द काम पर बुलाने को लेकर एक ज्ञापन भी मुख्यमंत्री के नाम सौंपा। विधायक गुर्जर ने कहा- 22 मार्च से लाॅकडाउन प्रभावशाली होने के पूर्व ग्रेसिम प्रबंधन व अन्य उद्योगों द्वारा नियमित रूप से स्थायी व ठेका श्रमिकों से कार्य करवाया जा रहा था, लेकिन कोरोना काल के बाद शासन द्वारा उद्योगों को प्रारंभ करने के आदेश देने के पश्चात ऐसी क्या स्थिति निर्मित हुई जो श्रमिकों के लिए रोजगार नहीं है, जबकि अन्य उद्योगों में सभी श्रमिकों को काम दिया जा रहा है। मेडिकल स्टोर व अन्य आवश्यक वस्तुओं की बिक्री बंद से मुक्त रही।

श्रमिक परिवारों पर फांके की नौबत, फिर भी चुप है भाजपाई, केस भी दर्ज करवाए
जिला कांग्रेस कार्यकारी अध्यक्ष सुबोध स्वामी ने कहा कि भाजपा की उद्योग प्रबंधन को खुश करने की नीति के कारण आज श्रमिकों पर यह अत्याचार हो रहा है। जब-जब भाजपा सत्ता में आती है ताे प्रबंधन खुलेआम श्रमिकों का शोषण करता है।

हजारों श्रमिक आज बेरोजगार घूम रहे हैं, लेकिन भाजपा का कोई जनप्रतिनिधि या नेता उनके हक, अधिकार की लड़ाई में श्रमिकों के साथ नजर नहीं आ रहा है। ठेका श्रमिकों द्वारा अपनी मांग को लेकर जब आंदोलन की रणनीति बनाई गई तो भाजपा नेताओं ने एक दिन पूर्व ही ठेका श्रमिकों पर प्रकरण दर्ज करवा दिए।

80 प्रतिशत उत्पादन, श्रमिक आधे भी काम पर नहीं
कांग्रेस नेताओं का कहना था कि उद्योग प्रबंधन इस बात की दलील दे रहा है कि उसका माल नहीं बिक रहा है। इस कारण वह श्रमिकों को काम नहीं दे पा रहा है। जबकि वर्तमान में 70 से 80 प्रतिशत उत्पादन उद्योग द्वारा स्थायी श्रमिकों पर ज्यादा वर्कलोड डालकर करवाया जा रहा है।

ज्ञापन का वाचन शहर कांग्रेस अध्यक्ष राधे जायसवाल ने किया। आंदोलन को रघुनाथसिंह बब्बू, काॅमरेड लोकूमल खत्री, ओमप्रकाश मौर्य, अजय शर्मा, साबिर पटेल, सुरेंद्रसिंह मोकड़ी आदि ने संबोधित किया। इस अवसर पर वीरेंद्र जैन, किशोर सेठिया, अनोखीलाल सोलंकी, योगेश मीणा, प्रमोद चाैहान, संदीप चाैधरी, जगदीश मिमरोट, अमित राठौर आदि उपस्थित थे।

0

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- लाभदायक समय है। किसी भी कार्य तथा मेहनत का पूरा-पूरा फल मिलेगा। फोन कॉल के माध्यम से कोई महत्वपूर्ण सूचना मिलने की संभावना है। मार्केटिंग व मीडिया से संबंधित कार्यों पर ही अपना पूरा ध्यान कें...

और पढ़ें