भक्तों की रजिस्टर में लगती है उपस्थिति:सालभर मंदिर आने वाले श्रद्धालुओं को हनुमान जयंती पर करते हैं पुरस्कृत, हर पांच साल में बढ़ जाती है हनुमानजी की प्रतिमा

नागदा6 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

उज्जैन जिले के नागदा में करीब 150 साल पुराना ऐसा हनुमान मंदिर हैं, जहां पर रोज आने वाले भक्तों की रजिस्टर में अटेंडेंस (उपस्थिति) लगाई जाती है। हनुमान जन्मोत्सव के दिन शत प्रतिशत उपस्थिति देने वाले भक्त को नकद राशि देकर सम्मानित किया जाता है।

मंदिर में रोज आने वाले भक्तों की रजिस्टर में उपस्थिति दर्ज की जाती है।
मंदिर में रोज आने वाले भक्तों की रजिस्टर में उपस्थिति दर्ज की जाती है।

इस मंदिर में स्थापित भगवान की प्रतिमा का कद भी प्रति पांच वर्ष में 2 से 3 सेंटी मीटर बढ़ जाता है। इसका अनुमान भगवान के नेत्र के आकार को देखकर लगाया जाता है। नेत्रों के प्रतिमा के अंदर पहुंच जाने पर पता लग जाता है कि, प्रतिमा के आकार में बदलाव हुआ है।

मंदिर समिति के उपाध्यक्ष रविंद्रसिंह रघुवंशी ने बताया कि यहां पर दो हनुमान जी की प्रतिमा है, दोनों पर सिंदूर का श्रृंगार किया जाता है। सामान्यतः दो प्रतिमाओं वाले हनुमान मंदिर पर एक ही प्रतिमा का सिंदूर श्रृंगार किया जाता है। मंदिर से लोगों की अटूट आस्था जुड़ी है। मंदिर की ख्याति होने के कारण मंदिर पर वर्तमान विधायक दिलीप सिंह गुर्जर, पूर्व नगर पालिका अध्यक्ष अशोक मालवीय भी रोज दर्शन के लिए जाते हैं।

श्रृंगार के लिए 6 माह की बुकिंग

भगवान की प्रतिमा पर श्रृंगार कराने के लिए लोगों को 6 माह पूर्व बुकिंग करानी पड़ती है। मंदिर से पांच साल से जुड़े गुलाब बाई कॉलोनी निवासी सुरेंद्र सिंह का कहना है कि लोगों में मान्यता है कि मंदिर पर नित्य उपस्थिति दर्ज कराने से किसी ना किसी शासकीय विभाग में नौकरी लग जाती है। फिर चाहे वह संविदा आधार पर ही क्यों ना हो।

खबरें और भी हैं...