पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

भाजपा में अंतर्कलह:मंडल के साइक्लोथन के कार्ड में भाजपा के कई वरिष्ठ नेताओं के चित्र तक नहीं

नागदा13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • पूर्व नपा अध्यक्ष और मंडल अध्यक्ष के बीच चल रही खींचतान भी आई सामने

शहर की भाजपा में अंतर्कलह अब खुलकर सामने आने लगी है। प्रधानमंत्री के आह्वान पर रविवार की सुबह निकलने वाली साइकिल रैली के लिए भी भाजपा नेताओं के बीच खींचतान मची हुई है। शहर में ही रहने वाले कई वरिष्ठ नेताओं के चेहरे साइक्लोथन के पोस्टर से गायब हैं। यहां खास बात यह है कि भाजपा मंडल अध्यक्ष और पूर्व नपा अध्यक्ष के बीच चल रही खींचतान भी इस साइक्लोथन में खासतौर पर सामने आई है।

भाजपा मंडल नागदा के तत्वावधान में 18 अक्टूबर रविवार को साइकिल रैली का आयोजन किया जा रहा है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देशवासियों से आह्वान किया है कि वह अपनी सेहत के लिए अपने आपको स्वस्थ रखे। योग, प्राणायाम, साइकिलिंग जैसे व्यायाम कर अपने शरीर को स्वस्थ रखे। इसी तारतम्य में साइकिल रैली का आयोजन रखा है। रविवार सुबह 7 बजे कृषि उपज मंडी से साइकिल रैली निकाली जाएगी।

साइक्लोथन के लिए सोशल मीडिया पर डिजिटल फॉर्मेट में तीन दिन पहले पोस्टर रिलीज किया गया। इसके अलावा कार्ड भी छपवाए गए हैं, जो शहर के कार्यकर्ताओं एवं भाजपा के पदाधिकारियों को वितरित किए हैं। इस कार्ड पर प्रधानमंत्री, भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष, मुख्यमंत्री, प्रदेशाध्यक्ष के अलावा जिला ग्रामीण अध्यक्ष बहादुरसिंह बोरमुंडला, पूर्व कैबिनेट मंत्री सुल्तानसिंह शेखावत, पूर्व विधायक लालसिंह राणावत, पूर्व भाजपा जिलाध्यक्ष तेजबहादुरसिंह चौहान के चित्र हैं। साथ ही कार्ड के एक तरफ केंद्रीय मंत्री थावरचंद गेहलोत, सांसद अनिल फिरोजिया और पूर्व विधायक दिलीपसिंह शेखावत के चित्र हैं।

नीचे की ओर मंडल अध्यक्ष सीएम अतुल की तस्वीर छपी हुई है, लेकिन इस कार्ड में कहीं भी पूर्व विधायक एवं केंद्रीय मंत्री थावरचंद गेहलोत के पुत्र जितेंद्र गेहलोत, नपा के पूर्व अध्यक्ष अशोक मालवीय, पूर्व नपा अध्यक्ष गोपाल यादव, पूर्व नपा अध्यक्ष शोभा यादव, पूर्व नपा अध्यक्ष विमला चौहान, पूर्व नपा अध्यक्ष राजेंद्र अवाना, जिला पदाधिकारी धर्मेश जायसवाल, अशोक मावर और राकेश यादव के चित्र नहीं हैं। इस कारण यह कार्ड शहर में चर्चा का विषय बना हुआ है। कार्ड से चित्र गायब होने के पीछे की वजह क्षेत्रीय गुटबाजी औ आपसी मनमुटाव बताया जा रहा है।

वर्चस्व की लड़ाई, इसलिए नहीं करते आमंत्रित

पूर्व नपाध्यक्ष मालवीय और भाजपा मंडल अध्यक्ष सीएम अतुल के बीच वर्चस्व की लड़ाई का यह पहला मामला नहीं है। पिछले कई महीनों से दोनों के बीच मनमुटाव चल रहा है, लेकिन दोनों खुलकर कुछ भी कहने को तैयार नहीं हैं। मनमुटाव के चलते दोनों ही एक-दूसरे को अपने-अपने कार्यक्रमों में आमंत्रित नहीं करते।

करीब एक पखवाड़े पहले मालवीय ने ठेका श्रमिकों को खाद्य सामग्री की किट वितरित की थी। कम्युनिटी हॉल में एक बड़ा कार्यक्रम भी रखा, लेकिन उस कार्यक्रम में मंडल अध्यक्ष अतुल कहीं नजर नहीं आए। इधर, रविवार को होने वाली साइकिल रैली को लेकर भी मालवीय को शनिवार दोपहर तक कोई सूचना नहीं दी गई।

पूर्व नपाध्यक्ष ने कहा- प्रथम नागरिक को सम्मान नहीं मिलता, यह वरिष्ठों के सोचने का विषय है

इस मामले को लेकर पूर्व नपाध्यक्ष मालवीय का कहना है कि मैंने पूरे 5 साल तक संगठन के प्रत्येक पदाधिकारी और कार्यकर्ताओं का सम्मान किया है। मेरा संगठन के किसी भी व्यक्ति से मतभेद नहीं है, लेकिन शहर के प्रथम नागरिक को अगर सम्मान नहीं मिलता है तो यह संगठन के वरिष्ठों के सोचने का विषय है।

आपस में किसी से कोई मनमुटाव नहीं है
भाजपा मंडल अध्यक्ष अतुल ने बताया कि कार्ड में केवल संगठन के वरिष्ठों के ही चित्र लिए गए हैं। मेरा किसी से भी कोई मनमुटाव नहीं है।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आप अपनी दिनचर्या को संतुलित तथा व्यवस्थित बनाकर रखें, जिससे अधिकतर काम समय पर पूरे होते जाएंगे। विद्यार्थियों तथा युवाओं को इंटरव्यू व करियर संबंधी परीक्षा में सफलता की पूरी संभावना है। इसलिए...

और पढ़ें