पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

ब्लैक फंगस:अब खाचरौद तहसील में भी ब्लैक फंगस की दस्तक

खाचराैद23 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • रुपए नहीं होने पर एसडीएम से गुहार, कलेक्टर से बात कर शुरू कराया इलाज

सावधान हो जाइए, क्योंकि अब खाचराैद तहसील में भी ब्लैक फंगस ने दस्तक दे दी है। खामरिया निवासी जरीना बी पति कासम खान को आंखों में सूजन, नाक से पस बहने की शिकायत पर उज्जैन चिकित्सक से परीक्षण कराने पर ब्लैक फंगस की पुष्टि हुई है।

एसडीएम पुरुषोत्तमकुमार ने बताया कि कुछ दिन पूर्व खामरिया निवासी शहजाद अपनी माता जरीना को लेकर उज्जैन अस्पताल पहुंचा, जहां पर उसे भर्ती करने का कहा गया। साथ ही इंजेक्शन लाने को कहा गया था। स्थिति नाजुक होने की वजह से वह इंजेक्शन लाने में असमर्थ था।

इस पर वह पुनः अपनी मां जरीना को अपने गांव लेकर आ गया और इलाज की आस छोड़ चुका था। खाचरौद तहसील में ब्लैक फंगस का यह पहला मामला है। पांच दिन पहले नागदा तहसील के ग्राम मोहना में भी ब्लैक फंगस का पहला मामला सामने आया था।

एसडीएम को सूचना मिलते ही रातोंरात कराई इलाज की व्यवस्था
शहजाद ने खामरिया के सचिव को बीमारी की सूचना दी। सचिव ने एसडीएम पुरुषोत्तम कुमार से चर्चा की। इस पर एसडीएम द्वारा तत्काल शुक्रवार रात 9 बजे कलेक्टर आशीष सिंह काे जानकारी दी। कलेक्टर ने संबंधित का पूर्णतः नि:शुल्क इलाज कराने के साथ ही आवश्यक दवा दिलवाने का आश्वासन दिया और सरकारी अस्पताल से बात की।

एसडीएम की मेहनत रंग लाई और रातोंरात सारी व्यवस्था कर शहजाद को सूचना दी कि वह उसकी मां को लेकर उज्जैन जिला चिकित्सालय पहुंच जाए। शहजाद शनिवार सुबह जिला चिकित्सालय पहुंचा, जहां उसकी माता का इलाज शुरू हुआ है और इंजेक्शन भी उपलब्ध हो गए हैं।
एक माह पहले हुई थी तबीयत खराब, पर उम्मीद छोड़ लौट आए थे
शहजाद खान ने बताया करीब एक माह पहले मां को बुखार की शिकायत होने पर उज्जैन के निजी चिकित्सालय में इलाज कराया था। कुछ दिन इलाज कराने के बाद वह स्वस्थ हो गई थी, लेकिन 7-8 दिन पहले आंखों में सूजन आने लगी। उसके बाद नाक से पस भी बहने लगा।

इस पर पुनः उज्जैन हॉस्पिटल ले गया था, लेकिन रुपए नहीं होने से वापस घर आ गया। गांव के सचिव व एसडीएम ने सहयोग किया, वरना महिला के परिजन इलाज की उम्मीद छोड़ बैठे थे और वापस गांव आ गए थे। शहजाद ने बताया कि हमें उम्मीद भी नहीं थी कि मां का इलाज करा पाएंगे, लेकिन अब सब ठीक हो गया है और मां का इलाज अच्छे से चल रहा है।

खबरें और भी हैं...