पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

तैयारी:सेवानिवृत्त सैनिक ने 12 साल पहले ज्याेत लाकर स्थापित की चाैथ माता की प्रतिमा

नागदा5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • प्रदेश के एकमात्र मंदिर में करवा चाैथ काे लेकर शुरू हुई तैयारी

विद्या नगर क्षेत्र में प्रदेश का एकमात्र चाैथ माता का मंदिर है। इसे आर्मी से सेवानिवृत्त सैनिक अजय सिंह ने बनवाया था। अजय सिंह राजस्थान में ही सेना में पदस्थ थे। वहां चाैथ माता के प्रति अधिक आस्था रखी जाती है।

जब वे शहर पहुंचे ताे प्रदेश में कहीं माता का मंदिर नहीं हाेने की जानकारी मिली। सेवानिवृत्ति के बाद उन्हाेंने 2008 में सवाई माधाेपुर के पास चाैथ का बड़वाड़ा से ज्याेत लाकर यहां प्रतिमा की प्राण-प्रतिष्ठा की। उसके बाद से ही माता की सेवा उनके द्वारा की जा रही है। बुधवार काे करवा चाैथ का पर्व महिलाओं द्वारा मनाया जाएगा। इसे लेकर मंदिर पर रंग-राेगन सहित अन्य तैयारियां शुरू कर दी गई है।

महाआरती में हाेगा काेविड-19 का पालन : मंदिर समिति प्रमुख मंजू बाला पाेरवाल ने बताया बुधवार शाम 6.30 बजे चाैथ माता मंदिर पर महाआरती का आयाेजन हाेगा। काेविड-19 के तहत मास्क अाैर साेशल डिस्टेंस के साथ महिलाएं शामिल हाेकर माता की आरती करेंगी। पाेरवाल ने बताया कि महिलाएं पति की दीर्घायु और परिवार की सुख-समृद्धि की कामना से निर्जल उपवास कर माता की आरती करती हैं।

महाआरती में शामिल हाेने का अनुराेध जया पांडे, आशा जवेरिया, पुष्पा रघुवंशी, प्रीति जायसवाल, साेनाली गुर्जर, मीना गुर्जर, रीमा पाेरवाल, प्रीति पाेरवाल, नीता सेठिया, मधुबाला भारद्वाज आदि ने किया है।

जनसहयाेग से हाे रहा माता मंदिर का सौंदर्यीकरण कार्य

पुजारी अजय सिंह ने बताया कि 12 साल से करवा चाैथ पर्व पर महाआरती और प्रसादी का वितरण किया जा रहा है। मंदिर का साैंदर्यीकरण जनसहयाेग से किया जा रहा है। इस बार करवा चाैथ पर्व पर 600 ग्राम चांदी का मुकुट चाैहान परिवार, इलेक्ट्रॉनिक आरती सेट रवींद्र रघुवंशी और माता का शृंगार शैलेंद्र गाैतम द्वारा कराया जा रहा है।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज आसपास का वातावरण सुखद बना रहेगा। प्रियजनों के साथ मिल-बैठकर अपने अनुभव साझा करेंगे। कोई भी कार्य करने से पहले उसकी रूपरेखा बनाने से बेहतर परिणाम हासिल होंगे। नेगेटिव- परंतु इस बात का भी ध...

    और पढ़ें