पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

परिजन के नहीं थम रहे आंसू:गहरे पानी में जाने से डूबा किशोर, आधे घंटे की मशक्कत के बाद निकाला शव

नागदा15 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • दाेस्तों के साथ नहाने गया था 14 वर्षीय किशोर

चंबल नदी में रविवार काे दाेस्ताें के साथ नहाने गया एक 14 वर्षीय किशाेर डूब गया। किशाेर के डूबने की सूचना पर बिरलाग्राम पुलिस सहित क्षेत्रवासी माैके पर पहुंचे और उसे खाेजने लगे। लगभग आधे घंटे तक किशाेर काे खाेजने की मशक्कत चलती रही। तब एक युवक ने गाेता लगाकर किशाेर काे बाहर निकाला।

जिसके बाद किशाेर काे लेकर परिजन अस्पताल पहुंचे लेकिन वहां चिकित्सकों ने मृत घाेषित कर दिया। मिली जानकारी के अनुसार गवर्नमेंट काॅलाेनी निवासी हिमेश पिता मनाेज ठाकुर क्षेत्र के ही दाेस्ताें के साथ चंबल नदी गया था, जहां लाेग तैराकी करने पहुंचते हैं।

यहां हिमेश और उसके दाे साथी नहाने लगे। इस दाैरान हिमेश और उसका एक साथी डूबने लगा। जिस पर एक साथी काे ताे लाेगाें ने बाहर निकाल लिया लेकिन हिमेश चंबल नदी की गहराई में चला गया। दाेस्ताें की सूचना पर क्षेत्र के लाेग भी पहुंचे ताे पुलिस भी हिमेश की खाेजबीन में गाेताखाेराें के साथ पहुंची।

आधे घंटे तक गाेताखाेर उसे खाेजते रहे। तभी एक गाेताखाेर युवक पहुंचा और वह हिमेश काे लेकर बाहर आया। परिजन उसे अस्पताल ले गए लेकिन तब तक उसकी माैत हाे चुकी थी।

चंबल के हाथ जोड़ मां सलामती की प्रार्थना करती रही

हिमेश के डूबने की खबर लगते ही उसकी मां और बहन दाेनाें चंबल किनारे पहुंच गए। उनका राे-राे कर बुरा हाल था। हिमेश के नहीं मिलने पर मां हाथ जाेड़कर चंबल मैय्या से विनती करती रही कि उसके बेटे काे सही सलामत दे दे।

वहीं पिता मनाेज ठाकुर, जाे उद्याेग में ठेकेदारी श्रमिक हैं, उन्हें भी सूचना मिलते ही वह ड्यूटी से सीधे चंबल तट पहुंचे। बेटे काे इस हाल में देखकर उनके भी आंख से आंसू नहीं थम रहे थे। बताया जा रहा है हिमेश उनका इकलाैता बेटा था। हिमेश के अलावा मनोज की एक पुत्री है।

खबरें और भी हैं...