• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Ujjain
  • Nagda
  • The daughter in law of the widowed daughter in law got remarried only after 17 months, the ritual performed in Khacharaud in a simple ceremony, the daughter was married

कोरोनाकाल में पेश की मिसाल / शादी के 17 महीने बाद विधवा हुई बहू की सास-ससुर ने फिर कराई शादी, बेटी बनाकर किया कन्यादान

नागदा, हार्ट अटैक से हुई थी पति की मौत, सास-ससुर ने दोबारा पीले किए हाथ। नागदा, हार्ट अटैक से हुई थी पति की मौत, सास-ससुर ने दोबारा पीले किए हाथ।
X
नागदा, हार्ट अटैक से हुई थी पति की मौत, सास-ससुर ने दोबारा पीले किए हाथ।नागदा, हार्ट अटैक से हुई थी पति की मौत, सास-ससुर ने दोबारा पीले किए हाथ।

  • खाचरौद के सुनहेरिया बाग में सादे समारोह के जरिए हुआ विवाह

दैनिक भास्कर

Jul 01, 2020, 09:50 AM IST

नागदा. वैश्विक स्तर पर कोरोना संक्रमण के डर के बीच भी रुढ़ियाें पर प्रहार कर सामाजिक जिम्मेदारियों का बोध कराती यह खबर सुकून देती है। इस दौर में बहुओं को दहेज के लिए सताने की कहानियां आए दिन सुर्खियां बनती है, उसी काल में बिजली कंपनी के एक सेवानिवृत्त अधिकारी ने अल्प आयु में बेटे की मौत का गम भूलाकर बहू को बेटी बनाकर नम आंखों से मंगलवार को विदाई दी।

खाचरौद के सुनहेरिया बाग में आयोजित सादे समारोह में बिजली कंपनी में लेखापाल रहे जी.एल. त्रिवेदी ने बहू शिवानी का हाथ जावरा के डॉ. अविनाश त्रिवेदी को सौंपा। गौरतलब है कि लेखापाल त्रिवेदी के बेटे उपेंद्र का विवाह शिवानी पिता राजेंद्र शर्मा से 7 जून 2017 को हुआ था। मगर नियति को दोनों का साथ रास नहीं आया और उपेंद्र ने महज 28 वर्ष की अल्प आयु में 12 नवंबर 2018 को जिंदगी से किनारा कर लिया। उपेंद्र की मौत का कारण हार्टअटैक था। सिर्फ 17 महीने में हम सफर का साथ छूटने पर शिवानी की जिंदगी वीरान हो चुकी थी। 

बेटे की मौत के बाद टूट चुके थे, बहू को खुश करने लिया यह निर्णय
जवान बेटे की मौत के गम में उपेंद्र के माता-पिता भी टूट चुके थे। मगर त्रिवेदी परिवार ने बहू शिवानी की जिंदगी में दोबारा रंग भरने का साहसिक निर्णय लिया और मंगलवार को अविनाश के साथ सात फेरे दिलाकर बहू बनकर आई शिवानी को बेटी बनाकर विदा किया। गौरतलब है कि शिवानी के पिता राजेंद्र शर्मा भी परिवार सहित खाचरौद में ही रहता है।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना