पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Ujjain
  • Nagda
  • The Police Kept Searching For The Minor In The Jungles And Wells Of Maulana, The Girl Walked 25 Km And Reached The Village Of Her Warts

सुखद:नाबालिग को पुलिस मौलाना के जंगलों व कुओं में ढूंढती रही, लड़की 25 किमी पैदल चलकर अपने मौसा के गांव पहुंच गई

बड़नगर5 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • बालिका के मिलने की खुशी में मां की आंखों से छलके आंसू, विवाद होने पर डर के कारण रात में घर से निकल गई थी

नाबालिग बालिका के लापता होने पर अनहोनी की आशंका में माता-पिता ने सारी रात रोते हुए गुजार दी। इधर पुलिस भी अपह्रत बालिका को रात-दिन ढूंढती रही। आखिरकार बालिका उसकी मौसी के घर पर सुरक्षित मिल गई। बालिका के मिलने से मां की आंखों में खुशी के आंसू छलक गए। 14-15 सितंबर रात 1 बजे ग्राम मोलाना निवासी आदिवासी महिला गुड्डीबाई पति शैतान द्वारा अपनी नाबालिग बालिका के अपहृत होने की कहानी थाना प्रभारी दिनेश प्रजापति को सुनाई। थाना प्रभारी ने उपरोक्त मामले से वरिष्ठ अधिकारियों को अवगत कराते हुए उनके निर्देश पर बालिका को ढूंढने के लिए उपनिरीक्षक जीवन भिडोरे, सहायक उपनिरीक्षक महेश चौहान, आरक्षक महेश मौर्य, रोहित तिवारी, महेंद्र शक्तावत आदि को लेकर टीम का गठन किया। बालिका मंजू की मां ने पुलिस को जो घटना बताई उसके अनुसार उसके बेटा अनोखीलाल ग्राम गुलरीपाड़ा की लड़की को भगाकर ले गया था। लड़की के परिवार के प्रकाश, भागवंता, घनश्याम व अन्य लोग सोमवार शाम को मौलाना पूछताछ के लिए आए थे। उन्होंने अपहृत बालिका से मारपीट की थी। इसके बाद से ही बालिका लापता हो गई। पुलिस को विवाद होने की जानकारी मिलने से अंदेशा था कि कहीं उसके साथ कोई अप्रिय घटना तो नहीं घट गई। पुलिस ने ग्रामीणों की मदद से बालिका को ग्राम मौलाना के आसपास खेतों में तलाश किया। सोयाबीन काटने आए आदिवासी मजदूरों से पूछताछ भी की, लेकिन पुलिस को बालिका का कोई सुराग नहीं मिला। पुलिस ने आसपास के कुओं में कुशल तैराकों की मदद से सर्चिंग करवाई। कुएं में बालिका का पता लगाने के लिए कैमरे की मदद ली। गांव के आसपास जाने वाले रास्तों पर सीसीटीवी कैमरे के फुटेज खंगाले। रिश्तेदारों के यहां फोन लगाकर बालिका के बारे में जानकारी ली। आसपास के गांवों में रहने वाले ग्रामीणों को भी बालिका के लापता होने के बारे में बताया गया, लेकिन सुराग नहीं मिला। इधर पुलिस को छानबीन के दौरान पता चला कि बालिका विवाद के बाद डर के कारण करीब 25 किमी पैदल चलते हुए बदनावर थाने के ग्राम गोविंदखेड़ा निवासी अपने रिश्तेदार विक्रम के यहां पहुंच गई। पुलिस गोविंदखेड़ा पहुंचकर मंजू को उसके घर मौलाना लेकर आई। मंजू ने पुलिस को बताया कि विवाद होने से वह घबरा गई थी। रात में घर से निकलने के बाद गांव मौलाना के पास नर्सरी में ही रात गुजारी। सुबह पैदल निकली और शाम होते होते अपने मौसाजी के गांव गोविंदखेड़ा पहुंच गई।

0

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज घर से संबंधित कार्यों को संपन्न करने में व्यस्तता बनी रहेगी। किसी विशेष व्यक्ति का सानिध्य प्राप्त हुआ। जिससे आपकी विचारधारा में महत्वपूर्ण परिवर्तन होगा। भाइयों के साथ चला आ रहा संपत्ति य...

और पढ़ें