पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Ujjain
  • 20 Percent Of 800 Industries Are Not Even Open, Entrepreneurs Said No Demand Due To Market Closure

लॉकडाउन:800 में से 20 फीसदी उद्योग भी नहीं खुले, उद्यमी बोले- बाजार बंद होने से डिमांड नहीं

उज्जैन4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

प्रशासन ने शहर की मक्सीरोड और देवासरोड उद्योगपुरी में उद्योगों को बिना परमिशन खोलने की अनुमति तो दे दी लेकिन यहां अभी कारखानों का सन्नाटा नहीं टूटा है। करीब 20 फीसदी उद्योग चालू हुए हैं वह भी आधी क्षमता के साथ। इसलिए क्षेत्र में मजदूरों की गहमागहमी भी नहीं है। उद्यमियों का कहना है बाजार बंद हैं तो डिमांड ही नहीं है। बिजली बिल का संकट अभी हल नहीं हुआ है। उद्योग चालू करने के लिए फाइनेंस भी चाहिए। इसलिए अभी औद्योगिक जगत मंथन के दौर से गुजर रहा है। उद्यमी माहौल देख रहे हैं। समय देख कर फैसला लेंगे। 
800 में से 20 फीसदी...
शहर के इन दोनों औद्योगिक क्षेत्र में करीब 800 उद्योग हैं। इनमें से अभी आटा मिल, दाल मिल, पोहा-परमल, तेल और पैकेजिंग मटेरियल बनाने वाले उद्योग ही चालू हुए हैं। दोना पत्तल, क्राकरी सहित अन्य सामग्री बनाने वाले उद्योगों में केवल उद्यमी आकर चर्चाएं कर रहे हैं। जो उद्योग चालू हुए हैं उनमें भी 30 से 50 फीसदी श्रमिक और कर्मचारी ही आ रहे हैं। प्रशासन द्वारा लगाई शर्तों का पालन करने के चक्कर में उद्यमी ज्यादा श्रमिकों को नहीं बुला रहे। उद्यमियों में कोरोना संक्रमण का  डर भी है। वे बताते हैं कि अधिकतर श्रमिक बस्तियों से आते हैं। कौन पॉजिटिव है, पता कैसे चलेगा।

जांच का काई प्रबंध नहीं है और कोई ऐसी व्यवस्था भी नहीं कि श्रमिकों को स्वास्थ्य परीक्षण के बाद प्रवेश देने की स्थिति बने। ऐसे में उद्यमी अपने भरोसे के श्रमिकों और कर्मचारियों के साथ काम चालू कर रहे हैं। लघु उद्योग भारती के अतीत अग्रवाल का कहना है कि उद्यमियों के सामने अनेक समस्याएं हैं, जिनका निदान होने में समय लगेगा। चूंकि मार्केट बंद है और डिमांड नहीं आ रही, इसलिए उद्यमी खामोश हैं। वे समय का इंतजार कर रहे हैं। औद्योगिक क्षेत्र खोल देने के साथ उन्हें पूरी क्षमता से चलाने की मंजूरी भी दी जाना चाहिए। आधी क्षमता से चलाने से उद्योगों का खर्च भी नहीं निकलेगा। 
मप्र शासन भी उद्योगों की मदद के लिए आगे आए
लघु एवं सुक्ष्म उद्योग वर्ग में राष्ट्रीय अवार्ड लेेने वाले उद्योगपति आनंद बांगड़ कहते हैं, उद्योगों को फिर से रफ्तार में आने में अभी लंबा वक्त लगेगा। इसके लिए मप्र सरकार को भी मदद के लिए आगे आना होगा। केंद्र सरकार ने उद्योगपतियों को 20 फीसदी अतिरिक्त बिना गारंटी लोन देने की घोषणा की है। लेकिन मप्र शासन ने इस पर स्टांप ड्यूटी माफ नहीं की है। हालाकि औद्योगिक क्षेत्र में थोड़ी हलचल बढ़ी है। उद्योगपतियों ने आपस में विचार मंथन भी शुरू कर दिया है। वे अपने उद्योग चालू करने के लिए संभावनाएं तलाश रहे हैं। जब तक बाजार खोलने की स्थिति नहीं बनती तब तक औद्योगिक क्षेत्र में भी गहमागहमी चालू नहीं होगी। बैंकों को भी पूरी तरह चालू करना होगा ताकि उद्योगपतियों के ऋण मामलों का जल्दी निराकरण होना चाहिए। 

आगर रोड उद्योगपुरी चालू करने के लिए विधायक को ज्ञापन
आगररोड उद्योगपुरी चालू करने के लिए उद्यमियों ने विधायक पारस जैन को ज्ञापन दिया है। अध्यक्ष राजेश गर्ग के अनुसार आगर रोड उद्योगपुरी में भी उद्योग चालू करने की अनुमति दी जाना चाहिए। लॉकडाउन अवधि में उद्योगों से बिजली की खपत के आधार पर ही बिल दिया जाना चाहिए। फिक्स्ड चार्ज माफ होना चाहिए। देश के अन्य राज्यों में यह माफ किया गया है। ज्ञापन देने में सचिव अखिलेश नागर भी शामिल थे। जैन ने मुख्यमंत्री के सामने यह मामला उठाने का आश्वासन दिया है।
उद्योगों को चालू करने के लिए शासन से अपेक्षाएं
बिजली बिल जितनी खपत उतना ही दिया जाए, जिससे उद्योगों पर अधिक भार न आए।

श्रमिक वर्ग का स्वास्थ्य परीक्षण कर उन्हें काम-काज के लिए फिट घोषित करें।

जिन बस्तियों से श्रमिक आते हैं, वहां भी स्वास्थ्य परीक्षण अभियान चलाया जाए।

उद्योग चालू करने के लिए लगाई शर्तों को कम करें। 

0

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज घर से संबंधित कार्यों को संपन्न करने में व्यस्तता बनी रहेगी। किसी विशेष व्यक्ति का सानिध्य प्राप्त हुआ। जिससे आपकी विचारधारा में महत्वपूर्ण परिवर्तन होगा। भाइयों के साथ चला आ रहा संपत्ति य...

और पढ़ें