पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Ujjain
  • After Five Years, The Land Mafia Again Active, Illegal Colonies Started To Be Cut, Officer Busy In Dealing With Corona

बिना सुविधा महंगे सौदे:पांच साल बाद भू-माफिया फिर सक्रिय, कटने लगीं अवैध कॉलोनियां, अफसर कोरोना से निपटने में व्यस्त

शाजापुर8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • 2015 में 54 कॉलोनियों पर लगाई थी रोक, लॉकडाउन के बाद जुलाई-अगस्त से फिर खेल शुरू

प्रशासनिक सख्ती से 5 साल तक दड़बे में छिपे रहने वाले भू-माफिया लॉकडाउन के बाद अब फिर खुलकर सामने आ गए। प्रशासन की परवाह किए बगैर उन्होंने फिर से बड़े स्तर पर शहर में अवैध कॉलोनियां काटना शुरू कर दी। मुरम का कच्चा रास्ता बनाकर लोगों को बगैर सुविधाएं उपलब्ध कराए इन लोगों ने महंगे दामों पर सौदेबाजी भी शुरू कर दी।

चार माह पहले कुछ भू-माफिया ने छोटे स्तर पर प्लॉट बेचने का काम शुरू किया। इन पर प्रशासनिक अधिकारियों ने ध्यान नहीं दिया। यह देख शहर के सभी भू-माफिया सक्रिय हो गए और शहर के चारों तरफ अवैध कॉलोनियां काटना शुरू कर दी। शहर के दुपाड़ा रोड क्षेत्र से लेकर नित्यानंद आश्रम के पीछे व नहर किनारे खुलेआम प्लॉट काटकर बेचे जा रहे हैं। इतना ही नहीं बगैर टीएनसी व बिल्डर लाइसेंस के ये लोग मकान बनाकर बेच रहे हैं।

मूलीखेड़ा रोड पर तो भू-माफिया ने सारी हदें पार कर दी। चीलर नदी की शासकीय जमीन पर ही कब्जा कर कॉलोनी काट दी। एबी रोड से लेकर दुपाड़ा रोड से नई सड़क को जोड़ने वाली सड़क की साइड में नहर किनारे भी ऐसे ही मुरम का रास्ता बनाकर अवैध कॉलोनी काटी जा रही है। दूसरी तरफ कांजा रोड व दिल्लौद रोड पर भी खुलेआम अवैध कॉलोनियों का अवैध कारोबार चल रहा है।

54 कॉलोनियों में खरीदी-बिक्री पर लगाई थी रोक

वर्ष 2015 में तत्कालीन कलेक्टर राजीव शर्मा के निर्देश पर तत्कालीन एसडीएम लक्ष्मी गामड़ ने अवैध तरीके से काटी जा रही 54 कॉलोनियों पर कार्रवाई करते हुए इन सर्वे नंबरों की खरीदी बिक्री पर प्रतिबंध लगाते हुए नामांतरण व निर्माण अनुमति देना प्रतिबंधित कर दिया था। साथ ही इन अवैध कॉलोनियों के भू-स्वामियांे के खिलाफ भी एसडीएम कोर्ट में प्रकरण दर्ज किया। इसके बाद से ही भू-माफिया के अवैध कारोबार पर रोक लगी, लेकिन अधिकारियों के बदलते ही मामला ठंडे बस्ते में डाल दिया गया।

अफसरों के बदलने के बाद शुरू नहीं कर पाए थे काम

कार्रवाई करने वाले अधिकारियों का तबादला होने के बाद भू-माफिया ने बाद में आए अफसरों से सेटिंग का प्रयास किया। इसके लिए सभी भू-माफिया ने मिलकर उस समय के तत्कालीन बड़े नेता को भी अपने पक्ष में किया। लेकिन पूरी कार्रवाई न्यायालयीन तरीके से होने के कारण बाद में आने वाले अधिकारी भी इस मामले में हाथ नहीं डाल सके। इधर कोविड-19 के दौर में अधिकारियों की व्यस्तता देख लॉकडाउन के बाद भू-माफिया सक्रिय हो गए।

12 से ज्यादा क्षेत्रों में काट दी कॉलोनियां

एबी रोड लालघाटी, सरस्वती शिशु मंदिर के पीछे, दुपाड़ा रोड, काशी नगर के समीप नहर किनारे, मूलीखेड़ा रोड, लौंदिया रोड, लालघाटी, बादशाही पुल, कांजा रोड, बेरछा रोड पर महर्षि स्कूल व ईंट भट्टों के पास, नित्यानंद आश्रम के पीछे नाले किनारे, इसी के समीप नहर किनारे आदि स्थानों पर खुलेआम कॉलोनी काटकर मकान बनाते हुए बेचने का काम चल रहा है।

नामांतरण व अनुमति नहीं दे रहे
^2016 के पहले बनी 29 कॉलोनियों को वैध करने के लिए राज्य स्तर पर फाइल पेंडिंग है। इसके बाद से बसने वाली कॉलोनियों में नपा ने नामांतरण से लेकर निर्माण अनुमति देना सब बंद कर दिया है। जहां अवैध तरीके से कॉलोनी काटी जा रही है। उन्हें नोटिस देकर कार्रवाई के लिए प्रशासन को रिपोर्ट करेंगे।
- भूपेंद्र दीक्षित, सीएमओ नपा

पुरानी फाइल निकालेंगे
पहले हुई कार्रवाई की फाइल निकालकर जांच कराएंगे। एबी रोड के साइड में हो रहे काम को रुकवा दिया गया है। इसके अलावा शिकायत मिलने पर 5-6 अन्य कॉलोनाइजरों को भी नोटिस जारी कर दिए हैं। अवैध तरीके से कॉलोनी काटने वालों पर हर हाल में कार्रवाई की जाएगी।
- एस.एल. सोलंकी, एसडीएम शाजापुर

खबरें और भी हैं...